बेंगलुरू: हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने डिजाइन और विकसित लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर (एलयूएच) का हिमालय में गर्म और उच्च मौसम की स्थिति में सफलतापूर्वक उच्च ऊंचाई क्षमता का प्रदर्शन किया. ये परीक्षण एचएएल, आईएएफ और सेना के परीक्षण पायलटों द्वारा द्वारा 24 अगस्त से 2 सितंबर तक किए गए थे.

एचएएल द्वारा तैयार एवं विकसित किए गए लाइट यूटिलिटी हेलि‍कॉप्टर (एलयूएच) का हिमालय में सफल परीक्षण किया गया, जहां उसने गर्म और ऊंचे क्षेत्र में अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन किया. यह जानकारी कंपनी ने गुरुवार को दी.

एचएएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक आर. माधवन ने कहा कि गर्म और ऊंचे क्षेत्र में परीक्षण के साथ ही एलयूएच ने उपयोगकर्ताओं की सभी जरूरतों को पूरा किया है और इसे जल्द संचालन मंजूरी प्रमाण पत्र मिल सकता है. उन्होंने एक बयान में कहा कि भारतीय वायु सेना, सेना और एचएएल के परीक्षण पायलटों ने 24 अगस्त से दो सितम्बर के बीच ये परीक्षण किए. बयान में कहा गया है, योजना के मुताबिक सभी परीक्षण सफल रहे.

एचएएल के मुताबिक लेह में (3300 मीटर की ऊंचाई) पर अंतरराष्ट्रीय मानक वातावरण 32 डिग्री सेल्सियस तापमान पर व्यापक परीक्षण योजना को अंजाम दिया गया. इसके बाद एचयूएच लेह से रवाना हुआ और दौलत बेग ओल्डी के एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड पर 5000 मीटर की ऊंचाई पर इसने गर्म वातावरण में प्रदर्शन किया. इसके बाद एक अन्य अग्रिम हेलीपैड पर 5500 मीटर की ऊंचाई पर 27 डिग्री सेल्सियस तापमान में इसका प्रदर्शन किया गया.

हेलि‍कॉप्टर ने बेंगलुरू से लेह के बीच तीन दिनों में 3000 किलोमीटर लंबी उड़ान भरी और इस दौरान यह कई नागरिक व सैन्य एयरफील्ड से गुजरा.

एलयूएच ने 2018 में नागपुर में गर्म मौसम में, 2019 में जम्मू-कश्मीर में ठंडे वातावरण में और चेन्नई में 2018 में तथा पुडुचेरी में 2019 में समुद्र स्तरीय परीक्षण पूरा किया है.