नई दिल्लीः दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के पंजाब के पूर्व मंत्री और शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया से माफी मांगने को लेकर आम आदमी पार्टी में मचा बवाल अब थोड़ा शांत होता दिख रहा है. केजरीवाल ने रविवार को इस मसले पर दिल्ली में पंजाब के 10 विधायकों के सामने अपनी सफाई दी. उन्होंने इस दौरान पंजाब के विधायकों को शांत करने और उन्हें अपनी बात समझाने की कोशिश की. रिपोर्ट्स के मुताबिक विधायकों ने केजरीवाल से स्पष्ट तौर पर पूछा कि आखिर कौन सी आफत आ गई थी कि उन्होंने माफी मांगी. केजरीवाल की सफाई के बाद ये विधायक संतुष्ट नजर आए. करीब दो घंटे तक चली बैठक में पंजाब के आप विधायकों ने कहा कि वे अरविंद केजरीवाल के खिलाफ पंजाब में भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी मुहिम जारी रखेंगे. Also Read - सीएम केजरीवाल ने किया ट्वीट, बोले- दिल्ली में कोरोना के 9900 बेड पूरी तरह से फ्री हैं, अब ज्यादातर मरीज घर में ही हो रहे ठीक

Also Read - Delhi Coronavirus News 2 July 2020: दिल्ली में प्लाज्मा बैंक शुरू, जानिए कौन लोग दान कर सकते हैं प्लाज्मा

इस बैठक में पंजाब के पांच जोनल अध्यक्षों ने भी हिस्सा लिया. हालांकि पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता सुखपाल सिंह खैरा और नौ अन्य विधायक इस बैठक में शामिल नहीं हुए. अभी तक यह भी स्पष्ट नहीं हुआ है कि पंजाब यूनिट के अध्यक्ष भगवंत मान सिंह और सह अध्यक्ष अमन अरोड़ा के इस्तीफे को पार्टी नेतृत्व स्वीकार करेगा या नहीं. सूत्रों के मुताबिक बैठक में केजरीवाल ने अपनी सफाई में कहा कि उनके खिलाफ 22 राज्यों में 33 मानहानि के मुकदमें चल रहे हैं. इस कारण उनपर भारी दबाव है. माफीनामा पंजाब में कानूनी लड़ाई खत्म करने के लिए था. Also Read - अरविंद केजरीवाल का बयान- दिल्ली की हालत में हो रहा सुधार, एक्सपर्ट्स की बातों पर न दें ध्यान

मजीठिया से केजरीवाल के माफी मांगने पर AAP में बवाल, भगवंत मान ने दिया इस्तीफा 

आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने मजीठिया पर मादक पदार्थों के कारोबार में संलिप्त होने का आरोप लगाने को लेकर अकाली नेता को माफी पत्र लिखा था जिसे लेकर‘आप’ की पंजाब इकाई हैरान हुई और विधायकों ने इसका विरोध किया था. पार्टी की पंजाब इकाई के अध्यक्ष भगवंत मान और सह अध्यक्ष अमन अरोड़ा ने केजरीवाल की माफी के विरोध में अपने पदों से इस्तीफा दे दिया था. पंजाब में पार्टी के 20 विधायकों में से 10 प्रदेश इकाई के नेताओं के साथ दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया से मिले. इस बैठक में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी मौजूद थे.

केजरीवाल ने मजीठिया से मांगी माफी, कुमार विश्वास बोले- जो थूक कर चाटे उसे हम क्या कहें

सूत्रों के अनुसार केजरीवाल ने सभी विधायकों को मजीठिया से माफी मांगने को लेकर स्पष्टीकरण दिया. केजरीवाल से मिले स्पष्टिकरण के बाद‘ आप’ विधायक संतुष्ट हो गए. हालांकि, बैठक में असंतुष्ट विधायकों में से आधे ही मौजूद थे, बाकी विधायक अब भी पार्टी नेतृत्व से नाराज हैं. बहरहाल इस समय पंजाब में पार्टी के टूटने की संभावना खारिज की जा रही है. गौरतलब है कि एक अलग समूह का गठन करने या पार्टी के बंटवारे के लिए 20 आप विधायकों में से दो- तिहाई की मंजूरी की जरूरत होगी.