नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी महाराष्ट्र और हरियाणा में सबसे बड़ा पार्टी बनकर उभरी है. महाराष्ट्र की बात की जाए तो बीजेपी शिवसेना के साथ मिलकर फिर वापसी करने को तैयार है, वहीं हरियाणा में बीजेपी शनिवार यानी और फिर से सरकार बना सकती है. आज चंडीगढ़ में बीजेपी-जेजपी सरकार को शपथग्रहण हो सकता है. बीजेपी को हरियाणा में 40 सीटें मिली हैं. अमित शाह ने हरियाणा में नई सरकार बनाने के लिए बीजेपी और जेजेपी के बीच गठबंधन का ऐलान किया है. आज सीएम खट्टर राज्यपाल से मुलाकात करेंगे जिसके बाद वह सरकार बनाने का दावा कर सकते हैं. Also Read - शशि थरूर ने सुमित्रा महाजन के निधन की गलत खबर ट्वीट की, फिर माफी मांगी

बीती शाम को गृहमंत्री अमित शाह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कहा कि भाजपा को मुख्यमंत्री और जजपा को उपमुख्यमंत्री पद मिलेगा. मनोहर लाल खट्टर को मुख्यमंत्री और जजपा से डिप्टी सीएम को लेकर समहति बनी है. प्रदेश में और सीएम और डिप्टी सीएम का पद होगा. अमित शाह ने कहा कि हरियाणा में बीजेपी और जेजेपी का गठबंधन अगले 5 सालों तक चलेगा. प्रेस कॉन्फ्रेंस के बीच सीएम खट्टर ने कहा कि हर एक स्थिर सरकार बनाएंगे. इस मौके पर जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने कहा, “हरियाणा को एक स्थिर सरकार देने के लिए भाजपा और जेजेपी का साथ आना महत्वपूर्ण था. मैं अमित शाह जी और नड्डा जी को धन्यवाद देना चाहता हूं. हमारी पार्टी ने तय किया था कि राज्य की बेहतरी के लिए एक स्थिर सरकार होना जरूरी है.” Also Read - ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर दिल्ली-हरियाणा का विवाद सुलझा! खट्टर और केजरीवाल की बातचीत का निकला ये नतीजा

भाजपा का चौटाला को अपने पाले में लाने का निर्णय जाटों को तुष्ट करने की उसकी इच्छा को रेखांकित करता है जिससे कि उसकी सरकार सुचारू तरीके से चल सके. राज्य में प्रभावी जाट समुदाय के बारे में माना जाता है कि उन्होंने हाल के चुनावों में भाजपा के खिलाफ वोट किया. इससे यह भी सुनिश्चित होगा कि उसे सरकार के बने रहने के लिए निर्दलीयों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा.