चंडीगढ़ः हरियाणा में भाजपा के साथ गठबंधन नहीं हो पाने के बाद शिरोमणि अकाली दल ने घोषणा की है कि वह राज्य विधानसभा चुनाव इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के साथ गठजोड़ करके लड़ेगा. केंद्र में सत्तारूढ़ राजग में सहयोगी अकाली दल ने राज्य में तब भाजपा से संबंध तोड़ लिए जब कलांवली से उसके एक मात्र विधायक बलकौर सिंह ने भाजपा का दामन थाम लिया. 2014 के विधानसभा चुनाव भी अकाली दल ने इनेलो के साथ गठबंधन में लड़े थे. बाद में 2017 में सतलुज-यमुना लिंक नहर के मुद्दे पर दोनों के संबंध टूट गए.

इस बीच हरियाणा में विपक्षी इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) ने 64 उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची जारी कर दी है. पार्टी के वरिष्ठ नेता और ऐलनाबाद से विधायक अभय चौटाला इस बार भी इसी सीट से चुनाव लड़ेंगे. इनेलो अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला की अध्यक्षता में दिल्ली में पार्टी की चुनाव समिति की बैठक हुई, जिसके बाद उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया गया.

पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष बी. डी. ढालिया ने कहा कि पहली सूची में 12 महिलाओं के नाम शामिल हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी ने समाज के विभिन्न वर्गों का ख्याल रखते हुए उम्मीदवारों का चयन किया. पूर्व विधायक दिलबाग सिंह यमुनानगर से चुनाव लड़ेंगे. ओपी चौटाला ने 25 सितंबर को घोषणा की थी कि पार्टी टिकट वितरण में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देगी. चौटाला शिक्षक भर्ती घोटाले में जेल की सजा काट रहे हैं लेकिन फिलहाल पैरोल पर बाहर हैं.

इस बीच बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने बुधवार को 27 उम्मीदवारों की अपनी दूसरी सूची जारी की जिसमें दो महिलाओं के नाम शामिल हैं. इससे पहले मायावती नीत पार्टी ने 41 उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की थी. हरियाणा की 90 सदस्यीय विधानसभा के लिये 21 अक्टूबर को मतदान होना है और 24 अक्टूब को नतीजे घोषित किये जाएंगे.