नई दिल्ली: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर एक बार फिर अपने बयान को लेकर चर्चा में आ गए हैं. शनिवार को एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने महिलाओं के बारे में विवादास्पद बयान दे दिया. कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के महिला विरोधी बयान के लिए माफी की मांग की है. Also Read - मनोहरलाल खट्टर का बयान, कहा-SYL के जरिए हरियाणा को उसका पानी का हिस्सा लेने से कोई नहीं रोक सकता

छेड़छाड़ और बलात्कार की बढ़ती घटनाओं की चर्चा करते हुए खट्टर ने कहा कि सबसे बड़ी चिंता इस बात को लेकर है कि ऐसी 80-90 फीसदी घटनाएं जानकारों के बीच ही होती हैं. युवक-युवती काफी समय तक इकट्ठे घूमते हैं. एक दिन अनबन हो गई तो लड़की अगले दिन एफआईआर करवा देती हैं, इसने मुझे रेप किया.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि खट्टर ने बलात्कार के संदर्भ में ‘महिला विरोधी’ टिप्पणी की है, इसके लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए. सुरजेवाला ने ट्विटर पर खट्टर के एक कथित बयान का वीडियो पोस्ट करते हुए कहा, ‘महिला विरोधी-खट्टर सरकार,करे बेटियों का तिरस्कार!हरियाणा के मुख्यमंत्री खट्टर जी की निन्दनीय टिप्पणी.’ कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता ने दावा किया, ‘खट्टर जी ने कहा है- बलात्कार की अधिकतम घटनायें उनके साथ होती हैं जो बाहर उठती-बैठतीं व घूमती-फिरतीं है. बढ़ते रेप व गैंगरेप की घटनाओं का दोष महिलाओं के चरित्र पर मढ़ना बेहद शर्मनाक.’ उन्होंने कहा कि अपने इस बयान के लिए खट्टर को माफी मांगनी चाहिए. फिलहाल खट्टर के कार्यालय या भाजपा की तरफ से इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

यौन उत्पीड़न की घटनाओं को सार्वजनिक किए जाने से संबंधित मीटू अभियान पूरे देश में जोर पकड़ चुका है. इसके लपेटे में बॉलीवुड, मीडिया और राजनीति से लेकर हर क्षेत्र के लोग आए हैं. पूर्व केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर को ऐसे ही आरोपों के बाद अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा. कहा