चंडीगढ़: वायु प्रदूषण के कारण ‘गैस चैम्बर’ में तब्दील हुई दिल्ली के पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने की घटनाओं को रोके जाने की अपील के बीच हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने इस प्रकार की घटनाओं की जानकारी देने वालों को इनाम के रूप में नकदी देने की शुक्रवार को घोषणा की. उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे किसानों को अन्य विकल्प अपनाने के लिए प्रोत्साहित करें.

दिल्ली-एनसीआर का प्रदूषण से घुटा दम: इमरजेंसी लागू, राजधानी के स्‍कूल 5 नवंबर तक बंद

यहां जारी एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार खट्टर ने उनके राज्य में फसल अवशेष प्रबंधन (सीआरएम) योजना की समीक्षा के लिए अधिकारियों से मुलाकात की. विज्ञप्ति में कहा गया कि खट्टर ने कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अधिकारियों से उन 10 गांवों का दौरा करने को कहा जहां पराली जलाने की सर्वाधिक घटनाएं हुई है. उन्होंने अधिकारियों से इसका कारण जानने को कहा. इसमें कहा गया कि अपने इलाके में इस प्रकार की घटनाओं की सूचना देने वाले को 1000 रुपए इनाम दिया जाएगा और उनकी पहचान गुप्त रखी जाएगी.

दिल्ली में हवा की गुणवत्ता पहली बार ‘आपात’ श्रेणी में पहुंची, ये इलाके हैं ज्यादा प्रभावित

दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में छाई है दमघोंटू धुंध की घनी चादर
उल्लेखनीय है कि दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में शुक्रवार को आसमान में दमघोंटू धुंध की घनी चादर छायी रही और वायु की गुणवत्ता खतरनाक ‘‘गंभीर श्रेणी’’ में पहुंच गई. इसके बाद ईपीसीए ने ‘सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थिति’ घोषित कर दी.