नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव में बुरी हार झेलने वाली कांग्रेस पार्टी हरियाणा में दो फाड़ हो गई है. राज्य के प्रभारी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर द्वारा गठित चुनाव प्रबंध समिति को ‘अमान्य’ घोषित कर दिया है. तंवर ने हरियाणा में आगामी विधानसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को चुनाव प्रबंध समिति गठित की थी और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, कांग्रेस विधायक दल की नेता किरण चौधरी सहित राज्य में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को समिति की पहली बैठक में आठ जुलाई को शरीक होने को कहा था.

आजाद ने कहा कि सिर्फ अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) के पास ही चुनाव से संबद्ध समितियां गठित करने की शक्तियां हैं और प्रदेशों के कांग्रेस प्रमुख खुद से ऐसा नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि तंवर द्वारा गठित हरियाणा चुनाव समिति ‘‘अमान्य’’ है और इसके लिए एआईसीसी की इजाजत नहीं ली गई थी. कांग्रेस अध्यक्ष पद से राहुल गांधी के इस्तीफे के बावजूद तंवर ने हरियाणा कांग्रेस प्रमुख के पद पर बने रहने का फैसला लिया. वहीं, हरियाणा कांग्रेस के कई नेता लंबे समय से तंवर के इस्तीफे की मांग रहे हैं.