चंडीगढ़: हरियाणा सरकार ने सरकारी सेवाओं में प्रवेश की अधिकतम उम्र सीमा 40 से बढ़ाकर 42 साल कर दी है. एक सरकारी प्रवक्ता ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि सभी विभागों से कहा गया है कि वे अपने सेवा नियमों में अपने स्तर पर सरकारी सेवा में प्रवेश की अधिकतम आयु सीमा बढ़ाने से जुड़े प्रस्ताव को शामिल करें. 30 मई को मंत्रिपरिषद की बैठक में लिए गए फैसले के मुताबिक विभागों को इसके लिए मंत्रिपरिषद, सामान्य प्रशासन विभाग, वित्त विभाग, हरियाणा लोक सेवा आयोग या हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग से कोई मंजूरी नहीं लेनी पड़ेगी.

प्रवक्ता ने बताया कि मुख्य सचिव द्वारा इस बाबत एक सर्कुलर सभी प्रशासनिक सचिवों,विभागाध्यक्षों, अंबाला, हिसार, रोहतक और गुड़गांव संभागों के आयुक्तों, सभी प्रमुख प्रशासकों , सभी बोर्डों , निगमों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के प्रबंध निदेशकों, उपायुक्तों, उप – संभागीय अधिकारियों (सिविल) और सभी विश्वविद्यालयों के रजिस्ट्रारों को भेजा गया है.

हरियाणा सरकार ने राज्य के सभी सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों और सरकारी सहायता प्राप्त पॉलीटेकनिक में वर्तमान प्लेसमेंट सेल के अंतर्गत उद्यमिता क्लब (ईसी) गठित करने के दिशानिर्देश तैयार किए हैं. एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि ईसी युवाओं में उद्यमी संस्कृति विकसित करेगा और उन्हें भविष्य में नौकरी खोजने वाले की जगह नौकरी पैदा करने वाले के रूप कदम उठाने के कौशल से लैस किया जाएगा. उन्होंने कहा कि सेल का मुख्य उद्देश्य रोजगार अवसर पैदा करने के लिए राज्य के छात्रों में उद्यमिता सृजित करना होगा.