नई दिल्ली: ईरान से तेल आयात में कथित तौर पर कमी किए जाने को लेकर कांग्रेस ने नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को ‘अमेरिकी प्रतिबंधों के सामने झुकने’ पर जवाब देना चाहिए. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक खबर का हवाला देते हुए ट्वीट कर कहा, ‘ईरान से भारत का तेल आयात 25 फीसदी कम होकर 7,77,000 बैरल से 5,70,000 बैरल हो गया. क्या मोदी सरकार ने ‘राष्ट्रीय हित’ से समझौता किया है.’

उन्होंने कहा कि ईंधन की कीमतें आसमान छू रही हैं और आम लोगों की जेब पर चपत लग रही है. प्रधानमंत्री और पेट्रोलियम मंत्री को ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के सामने झुकने के लिए जवाब देना चाहिए. सुरजेवाला ने जिस खबर का हवाला दिया उसमें कहा गया है कि जून में ईरान से भारत के तेल आयात में 25 फीसदी की कमी आई है.

भारत ने ईरान से कच्चे तेल का आयात घटाने के संकेत दिए थे. बदले में सऊदी अरब और कुवैत से कच्चे तेल की खरीद बढ़ाने की बात कही थी. अमेरिका द्वारा ईरान पर नए सिरे से प्रतिबंध लगाए जाने के मद्देनजर भारत ने कच्चे तेल की खरीद घटाने पर विचार करने की बात कही थी.

पिछले महीने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान परमाणु समझौते से हटने की घोषणा की थी. साथ ही अमेरिकी प्रतिबंधों को फिर से लगाने का ऐलान किया था जो समझौता होने के बाद हटा लिए गए थे. उस समय ट्रंप प्रशासन ने विदेशी कंपनियों को उनकी वाणिज्यिक गतिविधियों के हिसाब से ईरानी कंपनियों के साथ कारोबार बंद करने के लिए 90 से 180 दिन का समय दिया था. अब अमेरिका भारत और चीन सहित सभी देशों पर ईरान से कच्चे तेल की खरीद पूरी तरह बंद करने के लिए दबाव बना रहा है.