नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई सामूहिक बलात्कार (Hathras Gangrape Case) की घटना के विरोध में देश में कई जगहों पर प्रदर्शन हो रहे हैं. दिल्ली यूनिवर्सिटी में शिक्षकों ने विरोध प्रदर्शन किया. कई अन्य शहरों में अलग-अलग संगठनों ने भी प्रदर्शन किया और पीड़िता के लिए न्याय की मांग की. हरियाणा में कई जगह प्रदर्शन हुए और प्रदर्शनकारियों में से कई लोगों ने दोषियों को मौत की सजा देने की मांग की. यूपी, हरियाणा, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, कर्नाटक सहित कई और राज्यों में प्रदर्शन हो रहे हैं. Also Read - UP में कांग्रेस को बड़ा झटका: प्र‍ियंका से भी बात नहीं बनी तो पूर्व सांसद ने छोड़ी पार्टी, नेतृत्‍व पर सवाल

चंडीगढ़ के कैथल, यमुनानगर, फतेहाबाद और रोहतक सहित कई जगहों पर बृहस्पतिवार को विभिन्न सामाजिक संस्थाओं और दलित संगठनों ने प्रदर्शन किए. बहादुरगढ़ में प्रदर्शनकारियों ने कानून-व्यवस्था बनाए रखने में असफल रहने को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार का पुतला जलाया और राज्य की भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. यमुनानगर के रादौर में एक प्रदर्शनकारी ने कहा, ‘‘हमारी मांग है कि दोषियों को फांसी पर लटकाया जाए.’’ Also Read - कमलनाथ का ज्‍योतिरादित्य सिंधिया पर तंज, बीजेपी ने दूल्हा तो बना दिया, दामाद नहीं बनने देगी

इसके साथ ही कांग्रेस भी सड़कों पर है. कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के सड़कों पर उतरने और हिरासत में लिए जाने के बाद कांग्रेस देश के कई हिस्सों में प्रदर्शन कर रही है. हरियाणा कांग्रेस की अध्यक्ष कुमार सैलजा ने घटना को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘उन्होंने मामला दर्ज करने में देरी क्यों की ?’’ उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘क्या गरीब दलित की बेटी होना कोई अपराध है, क्या उसे न्याय का अधिकार नहीं है?’’ सैलजा ने सवाल किया, ‘‘पीड़ित परिवार को उसका अंतिम संस्कार करने का अधिकार क्यों नहीं दिया गया?’’ चंडीगढ़ कांग्रेस ने घटना के विरोध में बुधवार को कैंडल मार्च निकाला था.