नई दिल्ली: भारतीय स्पेस एजेंसी इसरो ने चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर के हाई रेजॉल्यूशन कैमरे से चांद की कुछ खूबसूरत तस्वीरें जारी की हैं. इस तस्वीर में चांद की सतह पर छोटे-बड़े गड्ढे दिखाई दे रहे हैं. इसरो के कहा है कि ऑर्बिटर में मौजूद आठ पेलोड ने चांद की सतह पर मौजूद तत्वों को लेकर बहुत सी सूचनाएं भेजी हैं. ऑर्बिटर चांद की सतह पर मौजूद कणों का पता लगा रहा है. ऑर्बिटर ने अपनी जांच में चांद पर मौजूद मिट्टी में मौजूद कणों के बारे में पता लगाया है.

बता दें कि इसरों ने 22 जुलाई 2019 को चंद्रयान 2 को लॉन्च किया था. इस मिशन के तहत लैंडर विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग करानी थी. लेकिन अंतिम क्षणों में चंद्रमा पर लैंडर विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग नहीं हुई, और वह रास्ता भटक गया. इसके बाद लैंडर से न तो संपर्क स्थापित किया जा सके और न ही उसने वहां कुछ काम किया. हालांकि चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अब भी अच्छे से काम कर रहा है और चांद की कक्षा में परिक्रमा करते हुए उसकी हाई रेसोल्यूशन तस्वीरें अपने कैमरे में कैद कर इसरो को भेज रहा है.

इसरो के वैज्ञानिक अभी भी इस जांच में जुटे हुए हैं कि विक्रम की लैंडिंग के दौरान गड़बड़ी कहां हुई. साथ ही वैज्ञानिक ऑर्बिटर द्वारा ली गई तस्वीरों की मदद से चांद के बेहद दुर्लभ दक्षिणी सतह का अध्ययन करने का प्रयास कर रहे हैं. चांद का ये हिस्सा ज्यादातर अंधेरे में रहता है.