हजीरा (गुजरात): ममता बनर्जी के नेतृत्व में 22 विपक्ष पार्टियां केंद्र सरकार के खिलाफ कोलकाता में रैली कर रही हैं, वहीं इसी बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने सूरत से करीब 30 किलोमीटर दूर लार्सन एंड टूर्बो के बख्तरबंद सिस्टम्स कॉम्प्लेक्स पहुंचे. यहां उन्होंने आर्मर्ड सिस्टम्स कॉम्प्लेक्स का उद्घाटन भी किया. इस दौरान वह एक तोप (टैंक) पर भी सवार हुए. उन्होंने इसका वीडियो भी अपने ट्वीटर अकाउंट पर साझा किया है. जिसमें वह टैंक पर सवार दिखाई दे रहे हैं.

मोदी ने ट्वीट किया, ‘एल एंड टी के आर्मर्ड सिस्टम्स कॉम्प्लेक्स में टैंकों का मुआयना करते हुए.’ प्रधानमंत्री मोदी ने आज ही इस परिसर का उद्घाटन भी किया. यह देश में ऐसा पहला प्रतिष्ठान होगा, जहां के-9 वज्र होवित्जर तोप का निर्माण किया जाएगा. कंपनी ने यह परिसर सूरत से करीब 30 किमी दूर हजीरा में स्थापित किया गया है. भारत की यह पहली निजी निर्माण इकाई होगी जहां स्व-चालित के9 वज्र होवित्जर तोपों का निर्माण किया जाएगा. ‘एल एंड टी’ ने 2017 में ‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत भारतीय सेना को के9 वज्र-टी 155 मिलिमीटर ‘ट्रैक्ड सेल्फ प्रोपेल्ड’ तोप प्रणालियों की 100 इकाइयों की आपूर्ति करने के लिए 4,500 करोड़ रुपये का अनुबंध हासिल किया था.


यहां होवित्जर जैसे अत्याधुनिक बख्तरबंद तोपों, भविष्य के इंफैंट्री लड़ाकू वाहनों और मुख्य युद्धक टैंकों का विनिर्माण किया जाएगा. कंपनी ने इन तोपों के निर्माण के लिए सूरत से करीब 30 किलोमीटर दूर अपने हजीरा स्थित केंद्र में आर्मर्ड सिस्टम्स कॉम्प्लेक्स स्थापित किया है, जहां स्व-चालित आर्टिलरी होवित्जर, भविष्य में पैदल सेना से लड़ने वाले वाहनों, भविष्य के लिए तैयार लड़ाकू वाहनों और भविष्य के मुख्य युद्धक टैंकों जैसे उन्नत बख्तरबंद वाहनों का निर्माण किया जाएगा.


विनिर्माण परिसर ‘के9 वज्र-टी 155 मिमी/52-कैलिबर ट्रैक्ड सेल्फ-प्रोपेल्ड होवित्जर गन’ कार्यक्रम को पूर्ण कर रहा है. ‘के 9 वज्र’ अनुबंध में 42 महीनों के अंदर ऐसी 100 प्रणालियों की आपूर्ति शामिल है. यह रक्षा मंत्रालय द्वारा एक निजी कंपनी को दिया गया सबसे बड़ा अनुबंध है. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी शनिवार को इस उद्घाटन समारोह में मौजूद थीं.