नई दिल्‍ली: दिल्‍ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार की जमानत अर्जी 25 लाख रुपए के निजी मुचलके के आधार पर स्‍वीकार करते हुए बेल दे दी है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 57 साल के शिवकुमार को धनशोधन मामले में तीन सितंबर को गिरफ्तार किया था. वह अभी तिहाड़ जेल में बंद हैं. बता दें कि न्यायमूर्ति सुरेश कैत ने उनकी जमानत याचिका पर 17 अक्टूबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिखा था. वहीं, बुधवार को आज सुबह ही कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी ने कर्नाटक के इस सीनियर नेता से तिहाड़ जेल में पहुंचकर मुलाकात की थी.

एजेंसी की ओर से कोर्ट में कहा गया था कि शिवकुमार और उनके परिवार ने 300 से अधिक संपत्तियां हासिल कीं और धनशोधन मामले में जांच चल रही है. कानून अधिकारी ने कहा कि शिवकुमार और उनके सहयोगियों के 317 बैंक खाते थे. कर्नाटक में सात बार के विधायक शिवकुमार को ईडी ने तीन सितंबर को धनशोधन निवारण अधिनियम के तहत कथित अपराध के लिए गिरफ्तार किया था. कांग्रेस के 57 वर्षीय नेता वर्तमान में तिहाड़ जेल में बंद हैं.

जमानत याचिका, दावे-प्रतिदावे
याचिका में दावा किया गया है कि यह मामला राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता का परिणाम था और उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं. ईडी ने उनकी जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा था कि वह प्रभावशाली व्यक्ति हैं और अगर उन्हें रिहा किया गया तो वह सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं और गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं.

तिहाड़ पहुंचकर शिवकुमार से मिलीं सोनिया
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने धनशोधन के आरोप में गिरफ्तार कर्नाटक के पूर्व मंत्री डीके शिवकुमार से बुधवार को तिहाड़ जेल पहुंचकर मुलाकात की और उनके प्रति एकजुटता प्रकट की. कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, सोनिया सुबह करीब नौ बजे तिहाड़ जेल पहुंचीं थी. एक सूत्र ने बताया कि सोनिया ने कर्नाटक के इस वरिष्ठ कांग्रेस नेता की खैरियत जानी और कहा कि पार्टी उनके साथ खड़ी है. बता दें धनशोधन के आरोप में गिरफ्तार शिवकुमार को प्रवर्तन निदेशालय ने कुछ हफ्ते पहले गिरफ्तार किया था और वह फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद हैं. सोनिया ने आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम से भी तिहाड़ जेल पहुंचकर मुलाकात की थी.