नई दिल्ली: दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने रविवार को दो कोविड-19 टीकों के आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिलने का स्वागत किया और कहा कि टीका पहुंचते ही दिल्ली सरकार टीकाकरण शुरू करने को तैयार है. जैन ने यहां संवाददाताओं से कहा कि पहले चरण में करीब तीन लाख स्वास्थ्य कर्मियों और अग्रिम मोर्चे पर काम करने वाले करीब छह लाख लोगों को टीका लगाया जाएगा.Also Read - DU Exam Update: कोरोना की वजह से परीक्षा से चूकने वाले छात्रों को एक और मौका, जानिये दिल्ली विश्वविद्यालय का ताजा फैसला

उन्होंने कहा, ‘‘भारत के औषधि महानियंत्रक ने दो टीकों के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. इसे संभव बनाने के लिए दिन रात काम करने वाले वैज्ञानिकों और अनुसंधानकर्ताओं को ढेर सारी बधाई.’’ Also Read - Coronavirus: इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी के 11 IFS अधिकारी कोरोना वायरस से संक्रमित

डीसीजीआई ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के स्वदेश में विकसित टीके ‘कोवैक्सीन’ के देश में सीमित आपात इस्तेमाल को रविवार को मंजूरी दे दी, जिससे व्यापक टीकाकरण अभियान का मार्ग प्रशस्त हो गया है. Also Read - International Flights News: 15 दिसंबर से इंटरनेशनल फ्लाइट शुरू करेगा भारत

दिल्ली में रविवार को कोरोना वायरस के 424 नये मामले सामने आये जो सात महीने से अधिक की अवधि में सबसे कम हैं. एक दिन में 14 लोगों की संक्रमण की वजह से मौत हो गयी. अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली में अब तक 6.26 लाख लोग संक्रमित हुए हैं और 10,585 संक्रमितों की मौत हो चुकी है.

मालूम हो कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया(DCGI) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) की वैक्सीन, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन को आपातकालीन स्थिति में रिस्ट्रिक्टेड यूज की अनुमति दे दी है.

DCGI से वैक्सीन की अनुमति मिलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्रवीट कर सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को DCGI से अनुमति मिलने के लिए देशवासियों और वैज्ञानिकों को बधाई दी है.