नई दिल्ली: भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 31,118 नए मामले आए जबकि 41,985 मरीज ठीक हो गए. अब तक 88,89,585 मरीजों के स्वस्थ हो जाने से ठीक होने की दर 93.94 प्रतिशत हो गई है. ये जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को दी. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में अब तक 14.13 करोड़ कोविड-19 जांच की गई हैं. Also Read - Weather Today: उत्तर और मध्य भारत के कुछ हिस्सों में पड़ने वाली है कड़ाके की सर्दी, जानिए कब मिलेगी राहत?

इन जांचों के मुताबिक संक्रमित होने की दर 11 नवंबर को 7.15 प्रतिशत थी जो एक दिसंबर को 6.69 फीसदी रह गई. मंत्रालय ने कहा कि औसतन 10,55,386 कोविड-19 जांच रोज की गई हैं और नवंबर में औसतन 43,152 मामले रोज सामने आए. Also Read - पाकिस्तान के संघर्ष विराम उल्लंघन में घायल भारतीय जवान शहीद

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “आज भी विश्व के बड़े देशों में भारत में प्रति दस लाख लोगों पर मामले सबसे कम हैं। अनेक ऐसे देश हैं जहां पर भारत से प्रति दस लाख लोगों पर आठ गुना तक ज़्यादा मामले हैं.” उन्होंने कहा कि देश में 11 नवंबर को पॉजिटिविटी रेट 7.15% था और 1 दिसंबर को ये 6.69% हो गया है. Also Read - लद्दाख गतिरोध: चीन ने फिर दिखाया रंग, बातचीत के बीच LAC पर चुपचाप बढ़ा दिया सैन्य जमावड़ा

स्वास्थ्य सचिव से जब ये पूछा गया कि पूरे देश को टीकाकरण करने में कितना समय लगेगा? इस दौरान स्वास्थ्य सचिव ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा, “मैं यह साफ करना चाहता हूं कि सरकार ने कभी पूरे देश को वैक्सीन लगाने की बात नहीं कही है. यह जरूरी है कि ऐसे वैज्ञानिक चीजों के बारे में तथ्यों के आधार पर बात की जाए.”

उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन वैक्सीन कितना प्रभावकारी है, उसपर निर्भर करेगा. हमारा उद्देश्य कोरोना ट्रांसमिशन चेन को तोड़ना है. अगर हम खतरे वाले लोगों को टीका लगाकर कोरोना ट्रांसमिशन रोकने में सफल रहे तो हमें शायद पूरी आबादी को वैक्सीन लगाने की जरूरत नहीं पड़े.

सीरम इंस्ट्टीयूट के परीक्षण के विपरीत प्रभाव के हालिया आरोपों पर सरकार ने कहा कि इससे टीके की समयसीमा पर कोई असर नहीं पड़ेगा. सरकार ने सीरम परीक्षण के विपरीत प्रभाव के आरोप पर कहा, “शुरूआती निष्कर्षों के आधार पर ऑक्सफोर्ड कोविड-19 टीके के परीक्षण को रोकने की आवश्यकता नहीं थी.:

इससे पहले मंगलवार सुबह जारी आंकड़ों में स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या पांच लाख से नीचे बनी हुई है और यह कुल संक्रमितों का महज 4.60 प्रतिशत है. मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि संक्रमण के नए मामलों की तुलना में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है और 4,35,603 मरीज उपचाराधीन हैं. देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के कुल 31,118 नए मामले आए.

केरल, दिल्ली, कर्नाटक, छत्तीसगगढ़ जैसे राज्यों में उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटी है जबकि उत्तराखंड, गुजरात, असम और गोवा में मरीजों की संख्या बढ़ी है.