तिरूवनंतपुरम: उत्तर प्रदेश की कई जगहों पर सूखे की खबर है. अब तक यहां ठीक से बारिश नहीं हुई है. वहीं, केरल के कई इलाकों में इतनी बारिश हो रही है कि लोगों को अपने घर छोड़ने पड़ रहे हैं. बारिश की वजह से 1.18 लाख लोग राहत शिविरों में रहने को मजबूर हैं. आधिकारिक सूत्रों ने आज यहां यह जानकारी दी. मानसूनी बारिश के दूसरे चरण में नौ जुलाई से अब तक दक्षिणी राज्य में 39 लोगों की जान जा चुकी है. Also Read - भारी बारिश ने पाकिस्तान में मचाई तबाही, 27 लोगों की मौत, 12 घायल

29 मई से शुरू हुई बारिश
केरल में दक्षिण-पश्चिम मानसून ने 29 मई को दस्तक दी थी. उन्होंने कहा कि आज सुबह तक अलप्पुझा में खोले गए 212 राहत शिविरों में कुल 50,836 लोग रह रहे हैं जबकि निकटवर्ती कोट्टायम में खोले गए 164 शिविरों में 37,657 लोगों ने शरण ले रखी है. राज्य के ये दोनों जिले बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं. इन जिलों में कई जगहों पर जलभराव से कोई राहत नहीं मिल रही. Also Read - बेमौसम बारिश बनी सरसों व आलू की फसल के लिए आफत, किसान परेशान

उत्तर प्रदेश में रूठा मानसून: ज्यादातर जिलों में सूखे की स्थिति, किसान बेचैन Also Read - BulBul Cyclone: बंगाल के तटीय क्षेत्र में तूफान की दस्तक, ओडिशा में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना

कमर तक पानी में चलने की तस्वीरें हुई आम
कमर तक पानी में महिलाओं और बच्चों की तस्वीरें इन दिनों यहां का सामान्य नजारा है. कई जगहों पर राज्य परिवहन निगम की बस सेवाएं भी बारिश की वजह से बंद करनी पड़ी हैं. मौसम विभाग ने कल तक राज्य के कुछ इलाकों में भारी से बेहद भारी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है.

यूपी में सूखे के हालात

उत्तर प्रदेश में रूठ चुका मानसून अब किसानों के लिये दर्द बनता जा रहा है. बारिश नहीं होने से धान तथा अन्य खरीफ फसलों की बुआई में हो रही देर के कारण काश्तकारों की पेशानी पर बल पड़ गये हैं. मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश में एक जून से 17 जुलाई तक औसतन 249 मिलीमीटर बारिश होनी चाहिए थी, लेकिन इस बीच केवल 121 मिलीमीटर वर्षा ही हुई है जो सामान्य बारिश का 50 प्रतिशत भी नहीं है. राज्य के कुछ जिलों में तो ठीकठाक वर्षा हुई है लेकिन ज्यादातर जिलों में सूखे की स्थिति है.