जम्मू-कश्मीर में बीते कुछ दिनों से भारी बर्फबारी और बारिश जारी है। ऐसे में राज्य में जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। भू-स्खलन की वजह से जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे भी लगातार चार दिनों से बंद पड़ा है। खराब मौसम को देखते हुए जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में चेतावनी जारी कर दी गई है। Also Read - DDC Elections in J&K: डीडीसी के दूसरे चरण के लिए मतदान प्रारंभ, मैदान में 321 उम्मीदवार

जम्मू कश्मीर में ये तीसरी बर्फबारी है। राज्य में तापमान काफी नीचे गिर गया है और सर्द हवाएं चल रही हैं । मौसम विभाग के मुताबिक श्रीनगर में दिन का अधिकतम तापमान 1.2 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान शून्य से 0.7 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। Also Read - School College Reopening latest News: जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने जारी की गाइडलाइन, 31 दिसंबर तक बंद रहेंग स्कूल-कॉलेज

जम्मू-कश्मीर के कई हिस्सों में बिजली, पानी और संचार की सेवाएं ठप्प पड़ी हैं। इसके साथ ही हवाई सेवाएं भी बाधित रहीं। श्रीनगर से कई उड़ाने रद्द कर दी गईं। खबर है कि आंधी की वजह से डोडा रामबाण में 180 मकान भी ढह गए हैं। यह भी पढ़ें: अफगानिस्तान में हिमस्खलन से 100 की मौत, जम्मू कश्मीर में एवलांस की चेतावनी Also Read - Jammu and kashmir DDC Polls: जम्मू कश्मीर की 43 सीटों पर आज जिला विकास परिषद के चुनाव, सुरक्षा के कड़े इंतजाम, जानें ताजा अपडेट

रविवार को रुक रुक कर हुई बर्फबारी से गुलमर्ग समेत कश्मीर के उच्च पर्वतीय इलाकों कुपवाड़ा, बारामूला, बांडीपुर, गांदरबल, बड़गाम, अनंतनाग, कुलगाम, पुलवामा तथा शोपियां में 1 फुट तक बर्फ की मोटी चादर बिछ गई। यहां बर्फीले तूफान आने की आशंका के चलते प्रशासन ने लोगों से सावधानी बरतने के लिए कहा है।