नई दिल्ली: भारत चीन सीमा पर बढ़ते तनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत का नारा दिया था. इस दौरान रक्षा क्षेत्र में भारत को मजबूती प्रदान करने को लेकर भी बात कही थी. मेक इन इंडिया मुहीम के तहत देश की सेना को लगातार मजबूती दी जा रही है. इसी कड़ी में भारतीय सेना को एक एंटी टैंक मिसाइल जल्द ही मिलने वाला है. एंटी टैंक मिसाइल ध्रुवास्त्र का सफल परीक्षण किया गया. इस मिसाइल को भारत में ही बनाया गया है. Also Read - Helina and Dhruvastra: भारत ने टैंक रोधी गाइडेड मिसाइलों Helina, ध्रुवास्त्र का सफल परीक्षण किया

इस मिसाइल का नाम नाग (NAG) से बदलकर ध्रुवास्त्र एंटी टैंक मिसाइल रखा गया है. ओडिशा के बालासोर मे 15-16 जुलाई के दिन इसका टेस्ट किया गया. अब यह मिसाइल जल्द ही भारतीय सेना के बेड़े में शामिल होगी. इसका इस्तेमाल भारतीय सेना के हेलीकॉप्टर ध्रुव के लिए किया जाएगा. Also Read - भारतीय सेना की बढ़ी ताकत, DRDO ने किया टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण, देखें VIDEO

बता दें कि फिलहाल जो टेस्टिंग की गई है वह बिना हेलीकॉप्टर के की गई है. इस मिसाइल की क्षमता की बात करें तो यह 4 किमी तक किसी भी टैंक को ध्वस्त कर सकती है. यह पूरी तरह स्वदेशी मिसाइल है. इसे DRDO ने बनाया है. इस मिसाईल को टैंक रोधी मिसाइल (ATGM) प्रणाली से लैस किया गया है. इस मिसाइल के लिए एक वाक्य इस्तेमाल करते है दागो और भूल जाओ (Fire And Forget). बता दें कि इस मिसाइल के भारतीय सेना के बेडे़ में शामिल होने से भारतीय सेना को और मजबूती मिलेगी.