झारखंड के भावी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने वंशवाद की राजनीति को लेकर भाजपा की ओर से किए जा रहे हमले का करारा जवाब दिया है. एक दिन पहले ही राज्य विधानसभा चुनाव में शानदार जीत हासिल करने वाले झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो), कांग्रेस और राजद गठबंधन के नेता सोरेन ने कहा है कि जो लोग उन पर वंशवाद की राजनीति करने का आरोप लगा रहे हैं उन्हें पता होना चाहिए कि शेर का बच्चा शेर होता है. हालांकि, उन्होंने आगे कहा कि यह बहुत दुखद है, ऐसा लगता है कि आप वंशवाद के बहाने माता-पिता पर हमला कर रहे हैं. उन्होंने कहा शेर का बच्चा शेर ही होगा ना ! अगर किसी मोची का बेटा मोची होता है तब किसी को कोई समस्या नहीं होती.

सोमवार को आए झारखंड विधानसभा चुनाव के नतीजे में इस गठबंधन को 47 सीटें मिली हैं. इस जीत के बाद एक निजी चैनल से बातचीत में सोरेन ने कहा कि जनता ने भाजपा की जनविरोधी नीतियों को नाकार दिया है. उन्होंने एनआरसी और सीएए जैसे मुद्दों के खिलाफ चल रहे विरोध का समर्थन किया और कहा कि इसको लेकर जनता ने अपना फैसला सुना दिया है.

सोरेन ने कहा, “देश भर में हो रहे प्रदर्शन में लोग मर रहे हैं. आपके (भाजपा के) कानूनों के लिए लोगों को अपनी जान दांव पर लगानी पड़ रही है. इस वक्त किसी को तो जिम्मेदारी लेनी होगी. यह केवल मुसलमानों के बारे में नहीं है. देश के हर नागरिक को अपनी राष्ट्रीयता दिखाने के लिए फिर से कतार में खड़ा होना पड़ेगा. देश में जो किसान है गरीब है वो अपनी जीविका के बारे में सोचेंगे या कागजात जमा करेंगे?”

झारखंड के अगले मुख्यमंत्री होंगे हेमंत सोरेन, 27 दिसंबर को मोरहाबादी मैदान में लेंगे शपथ

झामुमो-कांग्रेस-राष्ट्रीय जनता दल (राजद) गठबंधन ने 81 सीटों वाली विधानसभा में 47 सीटें जीती हैं. 44 साल के हेमंत सोरेन अर्जुन मुंडा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के दौरान उप मुख्यमंत्री भी थे. सोरेन ने कहा कि राज्य की सभी चुनौतियां हमारी हैं. एक मुख्यमंत्री के रूप में यह कहना गलत होता है कि हम पहले ये करेंगे और बाद में ये. उन्होंने राज्य के नागरिकों को भरोसा दिलाते हुए कहा, “हम झारखंड की सभी चुनौतियों का समाधान करेंगे, चाहे जंगलों में हों या शहरों या गांवों में. हम सबके साथ हैं.”