तिरुवनंतपुरम (केरल): केरल में कोरोनोवायरस पॉजिटिव मामलों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है. इसी बीच केरल के स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने मंगलवार को कहा कि पब्लिक हेल्थ एक्ट के अनुसार, यदि कोई भी व्यक्ति कोरोनोवायरस से संक्रमित है और इस बारे में वह छुपाता है या लोगों के संपर्क में आकर इस बीमारी को फैलाता है तो यह अपराध है. उन्होंने एक समाचार एजेंसी से बात करते हुए कहा कि जो लोग प्रभावित क्षेत्रों और देशों से वापस आने के अपने यात्रा विवरण के बारे में खुलासा नहीं कर रहे हैं, उन्हें अपराध माना जाएगा. Also Read - Covid-19: देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 5000 के करीब, लॉकडाउन बढ़ाने पर विचार कर रही है सरकार


स्वास्थ्य मंत्री शैलजा ने कहा, “अगर वे सकारात्मक हो जाते हैं, तो वे बीमारी फैलाएंगे. इसलिए हम उन्हें उनकी पहचान प्रकट करने और स्वास्थ्य विभाग से संपर्क करने के लिए कह रहे हैं. मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि यात्रा इतिहास को छिपाना एक अपराध है और उचित कार्रवाई की जाएगी.” इससे पहले मंगलवार को केरल के मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने कोरोना वायरस से संक्रमित छह और मामलों की पुष्टि की है. राज्य में अब तक COVID​​-19 से प्रभावित लोगों की कुल संख्या 12 हो गई है.

मुख्यमंत्री ने जारी अपने निर्देश में कहा था कि राज्य के स्कूलों में कक्षा 7 तक के छात्रों के लिए कक्षाएं और परीक्षाएं दोनों रद्द कर दी गई है. 31 मार्च तक सभी वेकेशन्स क्लासेज, ट्यूशन कक्षाओं, आंगनवाड़ियों और मदरसों को भी बंद कर दिया गया है. हालांकि, कक्षा 8 वीं, 9 वीं और 10 वीं कक्षा के लिए परीक्षाएं शेड्यूल के अनुसार जारी रहेंगी.