नई दिल्ली। कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक बुधवार को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर होगी और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी उम्मीदवारों की सूची भी आज जारी हो सकती है. पार्टी सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक बुधवार सुबह 10 बजे सोनिया के 10 जनपथ स्थित आवास पर होगी। सोनिया इस समिति की भी अध्यक्ष हैं. 

हिमाचल में चुनाव तारीखों का ऐलान, पहली बार होगा VVPAT का इस्तेमाल

हिमाचल में चुनाव तारीखों का ऐलान, पहली बार होगा VVPAT का इस्तेमाल

सूत्रों ने बताया कि बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी के प्रभारी महासचिव सुशील कुमार शिंदे के साथ साथ राज्य के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और प्रदेश पीसीसी प्रमुख सुखविंदर सिंह सुक्खू के भाग लेने की संभावना है. सूत्रों ने कहा कि समिति इस महत्वपूर्ण चुनाव के लिए कल उम्मीदवारों का चयन करेगी. अधिकतर उम्मीदवारों के नाम आज ही तय कर दिए जाएंगे. कुछ सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम बाद में तय किए जाएंगे. इसका कारण है कि कुछ सीटों पर उम्मीदवारों को लेकर आम सहमति नहीं बन सकी है. हिमाचल प्रदेश में नौ नवंबर को होने वाले चुनाव के लिए वीरभद्र सिंह को मुख्यमंत्री का चेहरा और प्रचार समिति का अध्यक्ष पहले ही घोषित किया जा चुका है.

सूत्रों ने कहा कि उम्मीदवारों के चयन में वीरभद्र की पसंद को महत्व दिया जाएगा. पूर्व केन्द्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के नेतृत्व में चयन समिति कल प्रदेश चुनाव समिति द्वारा भेजी गई. वीरभद्र ने कहा था कि पार्टी टिकट वितरण में जीतने की संभावना ही एकमात्र कारक है. उन्होंने इस सवाल का कोई जवाब नहीं दिया कि क्या राज्य में एक परिवार एक टिकट फार्मूले को लागू किया जाएगा. इस फार्मूले को पहले पंजाब में सफलतापूर्वक लागू किया गया था. 

हिमाचल प्रदेश चुनाव में दलित कार्ड को भुनाने में जुटी कांग्रेस, बीजेपी

हिमाचल प्रदेश चुनाव में दलित कार्ड को भुनाने में जुटी कांग्रेस, बीजेपी

मुख्यमंत्री ने इस बात की पुष्टि की कि उनके पुत्र विक्रमादित्य सिंह शिमला ग्रामीण सीट से लड़ेंगे जिसका प्रतिनिधित्व वर्तमान में वह खुद कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि उनके पुत्र को चुनाव लड़ने का समुचित अधिकार है क्योंकि वह हिमाचल युवा कांग्रेस का प्रमुख है. यह पूछे जाने पर कि क्या वर्तमान विधायकों को वापस उतारा जाएगा, उन्होंने कहा कि कुछ को छोड़कर सभी को मौका दिया जाएगा. केवल उन्हें ही नहीं दिया जाएगा जिन्होंने चुनाव नहीं लड़ने की मंशा जताई है.