शिमला: हिमाचल प्रदेश में भारत-चीन सीमा पर स्थित शिपकी ला सीमा चौकी के पास गत बुधवार को हुई हिमस्खलन की घटना में लापता हुए थल सेना के पांच जवानों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. बुधवार को पूर्वाह्न 11 बजे राज्य के किन्नौर जिले में शिपकी ला सीमा चौकी के पास यह घटना हुई थी. Also Read - 30,000 भारतीय सैनिक एलएसी पर चीनी सैनिकों के सामने डटे, SU-30, Mig-29 फाइटर्स भी तैयार

Also Read - गलवान घाटी में 1-2 किमी तक पीछे हटे चीनी सैनिक, हथियारों से लैस गाड़ियां अब भी LAC के पास मौजूद

इसमें सेना की 7 जेएके राइफल्स के छह जवान (हिमाचल प्रदेश से चार, उत्तराखंड और जम्मू कश्मीर से एक – एक) हिमस्खलन होने से बर्फ में दब हो गए थे. हवलदार राकेश कुमार का पार्थिव शरीर उसी दिन बरामद कर लिया गया था जबकि पांच अन्य का अब भी कोई अता-पता नहीं है. एक जिला अधिकारी ने बताया कि लापता जवानों का पता लगाने के लिए एक अभियान जारी है. Also Read - LAC पर डटी रहेगी भारतीय सेना, भीषण ठंड झेलने वाले हजारों टेंट्स का ऑर्डर दिया

सुरक्षा बलों के मानवाधिकारों की रक्षा के लिए याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

किन्नौर जिले की जन संपर्क अधिकारी ममता नेगी ने बताया कि पूह में मौसम साफ है लेकिन घटनास्थल के निकट आसमान में बादल छाये हुए है. उन्होंने बताया कि सोमवार की सुबह सात बजे राहत एवं बचाव अभियान फिर शुरू किया गया है. एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि सेना की पश्चिमी कमान राहत एवं बचाव अभियान की निगरानी कर रही है.