शिमला: हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में इस बार की शीत ऋतु में पहली बार हिमपात के साथ यहां गुरूवार को आकाश आंशिक रूप से बादलों से घिरा है और राज्य के कुफरी और डलहौजी में तापमान जमाव बिंदु के नीचे चला गया है. मौसम विज्ञान विभाग ने यह जानकारी दी है. मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि बुधवार एवं गुरूवार को राज्य के शिमला, कुफरी और डलहौजी एवं ऊंचाई वाले इलाकों में हिमपात हुआ है.

जम्मू-कश्मीर: आर्मी ने मुठभेड़ में ढेर किए 2 आतंकवादी, ऑपरेशन जारी

लुढका पारा, बढ़ गई ठिठुरन
शिमला में शाम साढ़े पांच बजे से साढ़े आठ बजे के बीच 3.3 सेंटीमीटर हिमपात हुआ और इसे मिलाकर अब तक राज्य में कुल हिमपात 10.1 सेंटीमीटर हो चुका है. पर्यटन के मशहूर स्थलों शिमला के कुफरी और चंबा जिले के डलहौजी में तापमान जमाव बिंदु के नीचे आने से कड़ाके की ठंड पड़ रही है. मौसम विज्ञान केंद्र शिमला निदेशक ने कहा कि आने वाले दिनों में राज्य के कई इलाकों में मौसम शुष्क बना रह सकता है. हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड के कई इलाकों में भारी बर्फ़बारी ने मैदानी इलाकों में भी ठंड बढ़ा दी है.

कश्मीर में बर्फ़बारी ने बढ़ाई कड़ाके की ठंड, गुलमर्ग में पारा शून्य से आठ डिग्री सेल्सियस नीचे लुढ़का

इस बीच कुफरी में न्यूनतम तापमान शून्य से 2.2 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा जबकि डलहौजी में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 0.7 डिग्री सेल्सियस आ गया. शिमला में न्यूनतम तापमान 1.4 डिग्री सेल्सियस पर स्थिर रहा. लाहौल एवं स्पीति जिले के केलांग में न्यूनतम तापमान शून्य से पांच डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया. बुधवार को किन्नौर जिले के काल्पा में शाम साढ़े पांच बजे से सुबह साढ़े आठ बजे के बीच तापमान शून्य से 3.8 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा. (इनपुट एजेंसी)

कोहरे के चलते रेलवे ने दो महीने के लिए रद्द की इतनी ट्रेनें, यहां देखें पूरी लिस्‍ट