नई दिल्ली: अपनी सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मारकर आत्महत्या करने वाले महाराष्ट्र एटीएस के पूर्व चीफ आईपीएस ऑफिसर हिमांशु रॉय को फिट रहने का बहुत शौक था. हिमांशु रॉय के साथ काम कर चुके उनके साथी बताते हैं कि रॉय रोजाना जिम जाकर एक्सरसाइज करते थे और अपने खान-पान पर भी विशेष ध्यान देते थे. बोनमैरो कैंसर से पीड़ित रॉय का विदेश में इलाज चल रहा था लेकिन इन दिनों वो अवसाद में घिर गए थे और इसलिए कथित रूप से उन्होंने अपने घर में गोली मारकर आत्महत्या कर ली. Also Read - एशिया के सबसे बड़े स्लम एरिया धारावी का होगा विकास, उद्धव सरकार बना रही प्लान

Also Read - आप ना करें ऐसा: मुंबई में बिना मास्क के पकड़े गए, बीएमसी ने दी ऐसी अनोखी सजा, हुए शर्मिंदा

हनुमान के भक्त थे Also Read - पेट्रोल-डीजल के दाम में नहीं हुआ कोई बदलाव, यहां पर जानिए अपने शहर में तेल के दाम

आईपीएस ऑफिसर हिमांशु रॉय पुलिस सर्किल में अपने शानदार काम के अलावा अपनी दमदार फिटनेस के लिए भी जाने जाते थे. उनकी शानदार फीजिक को देखकर जब लोग उनसे पूछते थे कि वो इतने फिट कैसे रहते हैं तो रॉय कहते थे कि वो हनुमान के भक्त हैं और इसलिए रोजाना एक्सरसाइज करते हैं. जब लोग रॉय से बॉडी बनाने के टिप्स मांगते थे तो रॉय उन्हें जिम जाने और खाने पीने पर ध्यान देने की सलाह देते थे. जब से हिमांशु रॉय बीमार पड़े तबसे उनका जिम जाना भी छूट गया था और इलाज की वजह से भी ऑफिस भी नहीं जा पा रहे थे.

मीठे से करते थे परहेज

फिटनेस को लेकर रॉय की दीवानगी का पता इससे ही चलता है कि वो कभी भी चीनी या चीनी से बनीं हुई चीजें नहीं खाते थे, मिठाई और कोल्डड्रिंक जैसी चीजों को वो हाथ भी नहीं लगाते थे. खाने के बाद भी रॉय वॉक करना जरूरी समझते थे. एक्सरसाइज और खाने पीने को लेकर सतर्क रहना, यही खूबी रॉय को देशभर में फिट अफसरों की कतार में खड़ा करती थी.

ये भी पढ़ें- कैंसर से पीड़ित थे हिमांशु रॉय, ऐसे पता चला था इस जानलेवा बीमारी का

वर्दी से था प्यार

हिमांशु रॉय को अपनी वर्दी से बेहद प्यार था. बीमारी के दौरान जब उन्होंने ऑफिस जाना छोड़ दिया था और घर पर ही रहते थे तब कई क्राइम रिपोर्टर उन्हें फोन कर उनका हालचाल पूछते थे. फोन पर रॉय कहते थे कि वो ठीक हो रहे हैं और उम्मीद है कि जल्दी ही वो वर्दी में नजर आएंगे. इलाज के दौरान रॉय से बात करने वाले पत्रकार बताते हैं कि रॉय कहते थे कि उन्हें पूरा विश्वास है कि हनुमान जी उन्हें ठीक कर देंगे.

हालांकि रॉय इलाज के दौरान कभी भी लोगों के सामने नहीं आए. जब कभी पत्रकार भी उनसे फोन पर बात करके हाल चाल पूछते थे तो वो यही कहते थे कि वो ठीक हो रहे हैं और जल्दी ही उनसे मिलेंगे लेकिन रॉय ने इलाज के दौरान कभी लोगों से मुलाकात नहीं की. रॉय को जानने वाले लोग कहते हैं कि इलाज के दौरान वो काफी कमजोर हो गए थे और इसलिए ऐसी हालत में वो लोगों के सामने नहीं आना चाहते थे. खबर के मुताबिक एक समय पर फिट रहने वाले रॉय कमजोरी के चलते ही डिप्रेशन में चले गए और उन्होंने आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया.