नई दिल्ली। युवा हिंदी रचनाकारों को अवसर देने वाले एक प्रकाशन समूह ने अपने कुछ चर्चित लेखकों को उनकी मौजूदा किताबों के ऑडियो बुक अधिकारों के लिए बड़ी राशि अग्रिम रॉयल्टी के रूप में देने की घोषणा की है.

किताबों को ऑडियो फॉर्मेट में बदला जाएगा

हिंदी दिवस (14 सितंबर) की पूर्व संध्या पर हिंद युग्म प्रकाशन ने एक विज्ञप्ति में यह दावा किया और बताया कि उसने अमेजॉन की ऑडियो पुस्तक निर्माण और प्रकाशन कंपनी ऑडिबल के साथ अपनी किताबों को ऑडियो फॉर्मेट में बदलने का करार किया है. इसके तहत नवंबर 2017 तक प्रकाशित किताबों को ऑडियो रूप में बदला जाएगा.

हिंदी दिवस 2018: कुछ मत करिए, लेकिन ये 10 रोमांटिक नॉवेल्स जरूर पढ़िए

इसी के तहत प्रकाशक ने अपने कुछ चर्चित लेखकों को उनकी मौजूदा किताबों के ऑडियो बुक अधिकारों के लिए एक बड़ी राशि अग्रिम रॉयल्टी के रूप में देने की घोषणा की है. इन लेखकों में अभिनेता मानव कौल, सत्य व्यास, दिव्य प्रकाश दुबे, निखिल सचान, अनु सिंह चौधरी, किशोर चौधरी, अजीत भारती, आशीष चौधरी, अंकिता जैन और उमेश पंत जैसे युवा लेखक शामिल हैं.

हिंद युग्म के संपादक शैलेश भारतवासी ने एक बयान में भरोसा जताया कि आने वाले समय में हिंदी के लेखक भी अपनी किताबों की ठीक ठाक रॉयल्टी पा सकते हैं.

उन्होंने कहा कि बहुत सारे हिंदी लेखकों को ई-बुक की रॉयल्टी के तौर भी लाखों रुपये मिल रहे हैं. इसके अलावा फ़िल्म इंडस्ट्री का ध्यान भी नए लेखकों की किताबों की ओर गया है. इसकी वजह से किताबों के फ़िल्म निर्माण अधिकार, वेब सीरिज निर्माण अधिकार बिकने लगे हैं.