अलीगढ़. महात्मा गांधी के पुण्यतिथि 30 जनवरी पर उनके पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा की नेता पूजा पांडे और उसके पति अशोक पांडे को बुधवार को लोकल कोर्ट में पेश किया गया. दोनों तप्पल इलाके से गिरफ्तार किया गया था. इस दौरान कोर्ट के बाहर मीडिया से बात करते हुए पूजा ने कहा कि हमें इसका कोई खेद नहीं है. हमने किसी तरह का अपराध नहीं किया है. हमने अपने संवैधानिक अधिकारों का निर्वहन किया है.Also Read - मुंबई: हाईकोर्ट ने राहुल गांधी को दी राहत, 7 साल पहले महात्मा गांधी की हत्या और RSS को लेकर दिया था बयान

बता दें कि हर साल 30 जनवरी को महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के दिन देश में शहीदी दिवस मनाया जाता है. इसी दिन हिंदू महासभा नाम के एक संगठन ने अलीगढ़ में पूजा पांडे के नेतृत्व में कुछ लोगों ने बापू के पुतले को गोली मारकर नाथूराम गोडसे को अपनी तरफ से श्रद्धांजलि दी. इसका वीडियो इंटरनेट पर वायरल होने के बाद पुलिस ने मामले का संज्ञान लिया और वायरल वीडियो के आधार पर मामला दर्ज किया. Also Read - UP विधानसभा अध्यक्ष का वीडियो वायरल, कम कपड़े, महात्‍मा गांधी और राखी सावंत का जिक्र, ट्वीट कर दी ये सफाई

13 लोगों के खिलाफ दर्ज था मामला
पुलिस ने हिन्दू महासभा की महिला नेता समेत 13 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. अलीगढ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरी ने बताया कि बुधवार को गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर नौरंगाबाद इलाके के एक घर में हिन्दू महासभा के कार्यकर्ताओं ने गांधी के पुतले पर एयर पिस्टल से गोलियां दागी. इसका वीडियो वायरल हो गया. Also Read - कांग्रेशनल गोल्ड मेडल: महात्मा गांधी को अमेरिका का सर्वोच्च नागरिक सम्मान देने का प्रस्ताव पेश

गोडसे जिंदाबाद के लगे थे नारे
वीडियो में दिख रहा था कि पहले तो नाथूराम गोडसे की प्रतिमा पर फूल-माला पहनाई गई. बाद में वीर सावरकर को नाथूराम गोडसे का राजनीतिक गुरु बताते हुए उन्हें भारत रत्न देने की मांग भी की गई. गौरतलब है कि महात्मा गांधी की हत्या करने के अपराध में गोडसे को 15 नवंबर 1949 को फांसी दे दी गई थी.