नई दिल्लीः उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने अपने सबसे बड़े अस्पताल हिंदू राव को अस्थायी रूप से बंद करने के दो दिन बाद सोमवार से आपातकालीन सेवाओं को फिर से शुरू कर दिया है. यहां की एक नर्स का कोविड-19 परीक्षण पॉजिटिव आने के बाद इसे बंद कर दिया गया था. Also Read - Coronavirus Latest News: विश्व में 64 लाख से ज्यादा लोग कोविड-19 के शिकार, लगभग चार लाख लोग गवां चुके जान

नॉर्थ डीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “नर्स के संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति का पता लगाने के बाद आपातकालीन सेवाएं फिर से शुरू की गईं हैं. हमने अस्पताल के परिसर को भी सैनिटाइज कर दिया गया है.” Also Read - कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भूमि पेडनेकर ने किया लोगों से ये अपील, बिग बी, अक्षय ने भी बढ़ाया हाथ  

नॉर्थ डीएमसी की कमिश्नर वर्षा जोशी ने कहा, “हमने यह सुनिश्चित करने के लिए अस्पताल में प्रवेश और निकास बंद किया है कि यहां अब कोई भी पहचाना हुआ संपर्क अब बाकी नहीं बचा है. हम नहीं चाहते कि यहां कोई भी नया मरीज तब तक आए जब तक कि सब कुछ पूरी तरह से सैनिटाइज न हो जाए.” उन्होंने कहा कि हमारी सबसे पहले प्राथमिकता लोगों के स्वास्थ्य की देखभाल करना है इसलिए हम किसी जल्दबाजी में नहीं हैं.

उन्होंने कहा कि नर्स के संपर्क में आए लोगों की पहचान कर ली गई है और उनका परीक्षण किया जा रहा है. उन सभी को आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा. जोशी ने कहा, “ऐसे अन्य लोग जो संपर्क में आए और वो अस्पताल में नहीं थे, उनकी भी अलग से जांच की जाएगी.” अब अस्पताल के सभी कर्मचारियों को चेहरे पर मास्क और हाथों पर दस्ताने पहनने जरूरी कर दिए गए हैं. इसी के साथ अस्पताल के डॉक्टर एसोशिएसन ने अस्पताल के अधीक्षक को पत्र लिखकर कोरोना के इलाज में जरूरी आवश्यक सामान की मांग की है.