डोडा/जम्मू: जम्मू कश्मीर में डोडा जिले के एक गांव में रविवार को मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिदीन का एक आतंकवादी मारा गया और सेना का एक जवान शहीद हो गया. अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद डोडा शहर से 26 किलोमीटर दूर गुंडाना इलाके के पोस्ता-पोत्रा गांव में एक संयुक्त अभियान चलाया. इसके बाद दोनों ओर से मुठभेड़ शुरू हो गई. Also Read - पाकिस्तान ने फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, भारतीय जवानों ने दिया मुंहतोड़ जवाब, एक जवान शहीद

इस मुठभेड़ के बारे में जानकारी देते हुए जम्मू पुलिस के IGP मुकेश सिंह ने बताया, “कल रात, हमें डोडा के खोत्र गांव में आतंकवादी ताहिर अहमद भट की उपस्थिति के बारे में जानकारी मिली. हम जनवरी 2020 से इस आतंकवादी की तलाश में थे जब हमने हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी हारून को मार गिराया था. हारून के बाद भट यहां आतंकी गतिविधियों को नियंत्रित कर रहा था.” Also Read - जम्‍मू-कश्‍मीर: सुरक्षाबलों ने रात में मार गिराया एक आतंकी, सर्च ऑपरेशन जारी

उन्होंने कहा, “एक संयुक्त ऑपरेशन शुरू चलाया गया था. आतंकवादियों ने एक घर से अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी. 5 घंटे तक मुठभेड़ जारी रही और मुठभेड़ के दौरान ताहिर अहमद भट मारा गया. हथियार और गोला-बारूद बरामद किए गए हैं.” Also Read - पुलवामा में एनकाउंटर में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादी मारे गए

इससे पहले अधिकारियों ने बताया कि सेना की राष्ट्रीय राइफल्स, पुलिस और सीआरपीएफ के संयुक्त दलों ने एक मकान में दो संदिग्ध आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद शनिवार रात को अभियान चलाया. अधिकारियों ने बताया कि संयुक्त दल जब ठिकाने की ओर बढ़ रहा था तब सुबह करीब साढ़े सात बजे उन पर भारी गोलीबारी की गई जिसका उन्होंने जवाब दिया. आतंकवादी संक्षिप्त मुठभेड़ के बाद एक मकान में छिप गए.

डोडा जिले में इस साल सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच यह दूसरी मुठभेड़ है. इससे पहले 15 जनवरी को हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर हारून अब्बास सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था. इस महीने की शुरुआत में जिले में हिज्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया था तथा उनके पास से कुछ हथियार एवं गोला बारुद भी बरामद किए गए थे. डोडा के साथ ही नजदीक के किश्तवाड़ जिले में हाल ही में आतंकवादी गतिविधियां बढ़ी हैं. चेनाब घाटी के इन जिलों को एक दशक पहले आतंकवाद से मुक्त घोषित किया गया था.

(इनपुट भाषा)