नई दिल्‍ली: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बुधवार को दिल्‍ली के पुलिस कमिश्‍नर अमूल्‍य पटनायक को तलब किया. शाह ने पुलिस कमिश्‍नर को बीते दिनों पुरानी दिल्‍ली के हौज काजी इलाके में हुए दो समुदायों के बीच बढ़े तनाव और मंदिर में तोड़फोड़ को लेकर तलब किया. इसके बाद दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर अमूल्‍य पटनायक ने केंद्रीय गृहमंत्री से मुलाकात मामले के मौजूदा हालात के बारे में जानकारी दी.  ब ता दें कि देश की राजधानी दिल्‍ली के हौज काजी इलाके में बीते रविवार चावड़ी बाजार इलाके में एक स्कूटर खड़ा करने को लेकर हुए झगड़े ने दूसरे दिन सोमवार को साम्प्रदायिक रंग ले लिया था और क्षेत्र में स्थित एक मंदिर में तोड़फोड़ की गई थी उसके बाद से इलाके में तनाव पैदा हो गया. 30 जून को दो समुदायों के बीच हुए संघर्ष में एक मंदिर में तोड़फोड़ हुई थी.

पुलिस कमिश्‍नर अमूल्‍य पटनायक ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा कि मैंने यहां की स्थिति के बारे में उन्‍हें जानकारी दी है. हौज काजी इलाके में अब चीजें सामान्‍य हैं. चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. माना जा रहा है कि इस घटना को लेकर शाह ने नाराजगी जताई है.

पुलिस कमिश्‍नर ने बताया कि हमने उन्हें घटना की सामान्य जानकारी दी है और बताया कि इलाके में हालात सामान्य हैं. यह मुलाकात इसी बारे में थी. सामान्य कार्रवाई की जा चुकी है, न्यायिक कार्रवाई भी होगी. अभी तक चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पटनायक ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज का विश्लेषण किया जा रहा है. मामले की जांच जारी है. उन्होंने शाह को इलाके में शांति बहाली के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में भी बताया.

एक दिन पहले मंगलवार को विहिप की दिल्ली इकाई के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक से मुलाकात की और दिल्ली के हौज काजी इलाके में मंदिर में तोड़-फोड़ में शामिल लोगों की गिरफ्तारी की मांग की.

बुधवार को सुबह मंदिर में स्‍थानीय लोग इकट्ठा हुए और मंदिर में चार दिन पहले हुई तोड़फोड़ के बाद पहली बार आरती हुई. इलाके में तनाव अभी भी है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्‍ली पुलिस और अर्धसैन्‍य बल हाई अलर्ट पर हैं. दुकानें खोली जा रही हैं और लोगों का कहना है कि कुछ मूर्तियां स्‍थापित की जाएंगी.

डॉ. हर्षवर्धन‍ ने इलाके का दौरा किया था
मंगलवार को केंद्रीय मंत्री और चांदनी चौक से सांसद डॉ. हर्षवर्धन‍ ने इलाके का दौरा किया था. उन्‍होंने कहा, ” यह दुर्भाग्‍यपूर्णऔर कष्‍टदायक है. मंदिर में जो किया गया वह अक्षम्‍य है. मैंने कहा कि पुलिस मामले में काम कर रही है और षड़यंत्रकारी जल्‍द ही गिरफ्तार किए जाएंगे और दंडित किए जाएंगे. मैं लोगों से सदभाव बनाए रखने की अपील करता हूं.

स्कूटर खड़ा करने को लेकर झगड़े ने साम्प्रदायिक रंग लिया
पुरानी दिल्ली के चावड़ी बाजार क्षेत्र में एक स्कूटर खड़ा करने को लेकर हुए झगड़े ने साम्प्रदायिक रंग ले लिया है और क्षेत्र में स्थित एक मंदिर में तोड़फोड़ की गई. उसके बाद सोमवार से क्षेत्र में तनाव रहा.

विवाद की ऐसे हुई थी शुरुआत
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार यह घटना रविवार देर रात उस समय हुई जब आस मोहम्मद (20) एक इमारत के बाहर अपना स्कूटर खड़ी
कर रहा था. इमारत के एक निवासी संजीव गुप्ता ने इस पर आपत्ति जताई जो कि वहां खाने-पीने की एक दुकान चलाता है. गुप्ता की पत्नी बबीता ने बताया कि जब उसके पति ने स्टॉल के पास स्कूटर खड़ा करने पर आपत्ति की तो तब तो मोहम्मद वहां से चला गया, लेकिन वह बाद में वहां और व्यक्तियों के साथ आया, जिन्होंने संभवत: शराब पी हुई थी और उन्होंने गुप्ता की पिटाई कर दी. दूसरे समुदाय के व्‍यक्‍ति ने अलग बात कही
वहीं, 27 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर साकिब ने अलग बात बताई. उसने कहा, जब मोहम्मद की पिटाई कर दी गई, वह और उसके परिवार के अन्य सदस्य पुलिस थाने गए और मामला दर्ज कराया.

शराब के नशे में होने का संदेह
घटना से संबंधित एक वीडियो में पार्किंग मुद्दे को लेकर कुछ व्यक्ति एक व्यक्ति की पिटाई करते दिखते हैं, जिनके शराब के नशे में होने का संदेह है. क्षेत्र में रहने वाले आकीब हसन (25) ने कहा, जब मोहम्मद ने अपना स्कूटर खड़ा किया, तो गुप्ता ने उससे कहा कि वह अपना स्कूटर कहीं और ले जाए, नहीं तो वह उसे आग लगा देगा. उसके बाद झगड़ा हो गया, जिसमें गुप्ता और कुछ अन्य व्यक्तियों ने मोहम्मद को इमारत में खींचा और उसकी पिटाई कर दी.

मंदिर के बाहर जुटी भीड़ ने थी की तोड़फोड़
इस बीच, स्थानीय लोगों ने पुलिस नियंत्रण कक्ष को फोन कर दिया और मोहम्मद और गुप्ता दोनों को पुलिस थाने ले जाया गया.साकिब ने दावा किया, जब मोहम्मद और गुप्ता पुलिस थाने में थे, कुछ अज्ञात व्यक्ति मंदिर के बाहर एकत्रित हो गए और उसमें तोड़फोड़ की. इससे क्षेत्र में तनाव उत्पन्न हो गया. मंदिर दुर्गा मंदिर गली में स्थित है. यह मंदिर घटनास्थल के पास में ही स्थित है. मंदिर के पुजारी अनिल कुमार पांडेय ने कहा, भीड़ रविवार की रात करीब 12 बजे मंदिर आई. उसने मंदिर में तोड़फोड़ की और वहां से चली गई.