केंद्रीय गृह मंत्री और BJP नेता अमित शाह (Amit Shah) 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Election) से पहले पार्टी के संगठनात्मक मामलों का जायजा लेने के लिए 5 नवंबर से पश्चिम बंगाल की दो दिवसीय यात्रा करेंगे. पार्टी सूत्रों ने यह जानकारी दी. देर रात के एक घटनाक्रम में पश्चिम बंगाल भाजपा के महासचिव सयंतन बसु ने कहा कि BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की छह नवंबर से निर्धारित यात्रा रद्द हो गई.Also Read - UP Election 2022: BJP ने 85 में से 49 सीटों पर OBC और SC समाज के लोगों को टिकट दिए, मुलायम के समधी को भी उम्मीदवार बनाया

बसु ने शुक्रवार रात कहा, ‘जेपी नड्डा जी की यात्रा फिलहाल रद्द हो गई है. यह निर्णय लिया गया है कि अमित शाह जी पांच नवंबर से दो दिवसीय यात्रा पर पश्चिम बंगाल आएंगे.’ उन्होंने कहा, ‘उनके पांच नवंबर को मेदिनीपुर जिले का दौरा करने की संभावना है और अगले दिन वह राज्य के पार्टी नेताओं से मिलेंगे. कार्यक्रम को अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है.’ भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि शाह संगठन के विभिन्न पहलुओं पर गौर करेंगे और आगामी विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी की रणनीति पर चर्चा करेंगे. Also Read - Uttarakhand Election 2022: उत्तराखंड में BJP को एक और झटका, ओम गोपाल रावत कांग्रेस में शामिल हुए

उन्होंने कहा, ‘यह कमोबेश इनडोर कार्यक्रम होंगे. संभावना है कि वह कोलकाता में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर सकते हैं.’ सूत्रों ने बताया कि यात्रा के दौरान शाह, विजयवर्गीय, उपाध्यक्ष मुकुल रॉय और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष जैसे वरिष्ठ पार्टी नेताओं के साथ बूथ और जिला स्तर के नेताओं के साथ बातचीत करेंगे. हालांकि शाह ने इस साल की शुरुआत में पश्चिम बंगाल के लिए एक डिजिटल रैली को संबोधित किया था. यह कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लगे लॉकडाउन के बाद राज्य की उनकी पहली यात्रा होगी. शाह ने इससे पहले एक मार्च को पश्चिम बंगाल का दौरा किया था. Also Read - Punjab Polls 2022: पंजाब चुनाव के लिए BJP ने जारी की 34 उम्मीदवारों की पहली LIST, जानें कौन कहां से लड़ेगा चुनाव

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ राज्य में ‘बिगड़ती’ कानून व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार की लगातार आलोचना करते रहे हैं. पश्चिम बंगाल के भाजपा नेता राज्य में कानून व्यवस्था खराब होने का हवाला देते हुए राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग भी कर रहे हैं. धनखड़ ने एक दिन पहले ही नयी दिल्ली में शाह से मुलाकात की और राज्य के मामलों को लेकर चर्चा की.

(इनपुट: भाषा)