कोच्चि: केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने केरल में बाढ़ की स्थिति को आजादी के बाद से अभूतपूर्व करार देते हुए केंद्रीय राहत के रूप में तत्काल 100 करोड़ रुपए देने का रविवार को ऐलान किया. जबकि राज्य सरकार ने राष्ट्रीय आपदा राहत कोष (एनडीआरएफ) से 1,220 करोड़ रुपए की राहत राशि की तत्काल मंजूरी मांगी है. भारी बारिश से आई बाढ़ और भूस्खलन से सबसे बुरी तरह प्रभावित इडुक्की और एर्नाकुलम जिलों का सिंह ने हवाई सर्वेक्षण किया.

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि बारिश और बाढ़ से कृषि क्षेत्र और सड़क एवं बिजली जैसी अवसंरचना को भारी नुकसान हुआ है. उन्होंने मीडिया से कहा, “केरल अभूतपूर्व बाढ़ की स्थिति का सामना कर रहा है. यह अभूतपूर्व है क्योंकि स्वतंत्र भारत के इतिहास में केरल में इस तरह की बाढ़ कभी नहीं आई है.”मुख्यमंत्री पी विजयन, केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री अल्फोंस कन्ननथनम, राज्य सरकार के मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा के बाद उन्होंने यह बात कही.

केंद्रीय गृह मंत्री सिंह ने बहुत गंभीर स्थिति से निपटने के लिए केंद्र की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन भी दिया. मंत्री ने कहा, ” मैं वर्तमान संकट से केरल के लोगों को हो रही परेशानियों को समझता हूं. चूंकि क्षति के अनुमान में समय लगेगा इसलिए मैं 100 करोड़ रुपए की तत्काल अग्रिम राहत का ऐलान करता हूं.”

केरल सरकार ने मांगी 1,220 करोड़ रुपए की राहत राशि
राज्य सरकार ने स्थिति से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपदा राहत कोष (एनडीआरएफ) से 1,220 करोड़ रुपए की राहत राशि को तत्काल मंजूरी देने की मांग को लेकर एक ज्ञापन भी सिंह को सौंपा. ज्ञापन में मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रारंभिक आकलन के मुताबिक बारिश, बाढ़ और भूस्खलन के कारण केरल को 8,316 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है.

एनडीआरएफ की 14 टीमें तैनात
केंद्रीय गृह मंत्री सिंह ने कहा, ”इस नाजुक मौके पर केंद्र केरल की जरूरतों को लेकर बहुत अधिक संवेदनशील है.” मंत्री ने कहा कि मॉनसून के वर्तमान मौसम के दौरान केरल में एनडीआरएफ की तीन टीमों को पहले ही तैनात कर दिया गया था. सिंह ने ट्वीट कर कहा, “राज्य में एनडीआरएफ की 11 और टीमों को तैनात किया गया है. इसके साथ ही राज्य में तैनात एनडीआरएफ की टीमों की कुल संख्या 14 हो गई है. जरूरत पड़ने पर हम और टीमों को वहां काम पर लगाएंगे.” इससे पहले मंत्री ने एर्नाकुलम जिले के पारावुर तालुक में एलांतिकारा में एक राहत शिविर का दौरा किया.

बाढ़ के कारण स्थिति बहुत गंभीर
केंद्रीय गृह मंत्री सिंह ने कहा, “आज मुख्यमंत्री के साथ मैंने बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया और मैं इस नतीजे पर पहुंचा कि केरल में बाढ़ के कारण स्थिति बहुत गंभीर है.”
मंत्री ने कहा, “मैं राज्य सरकार को आश्वस्त करना चाहता हूं कि बाढ़ से जु़ड़ी चुनौतियों से निपटने के लिए केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव मदद उपलब्ध करायी जाएगी.”केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस स्थिति में केंद्र सरकार राज्य की सरकार के साथ पूरी दृढ़ता के साथ खड़ी है. उन्होंने बाढ़ में घर और भूमि खोने वालों की शिकायतें भी सुनीं.

अब तक 37 लोगों की मौत
इससे पहले यहां पहुंचने पर सिंह ने कोचीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर विजयन, राजस्व मंत्री, कृषि मंत्री वी एस सुनील कुमार, जल संसाधन मंत्री मैथ्यू टी थॉमस और मुख्य सचिव टॉम जोस के साथ बैठक की. राज्य में कल के बाद बारिश से जुड़ी घटनाओं में किसी और व्यक्ति के मरने की सूचना नहीं है. अधिकारियों के मुताबिक आठ अगस्त तक राज्य में बारिश से जुड़ी घटनाओं में 37 लोगों की मौत हो गई.