पालीगंज (बिहार): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा को चुनावी मुद्दा बनाने का विरोध करने को लेकर बुधवार को विपक्ष पर निशाना साधा और कहा कि केवल आक्रामक रणनीति अपनाकर ही आतंकवाद का सफाया किया जा सकता है, जैसा कि उनकी सरकार ने किया. वहीं मोदी ने ये भी कहा कि यह चुनाव के दौरान राज्य में मेरी आखिरी जनसभा है, लेकिन मैं अपने नए कार्यकाल में मेरी विकास परियोजनाओं के साथ आपके बीच वापस आऊंगा. आपका प्यार देखकर मुझे अपनी जीत का भरोसा हो गया है. Also Read - नेपाल कम्युनिष्ट पार्टी से निकाले गए केपी शर्मा ओली, पहले छीना अध्यक्ष पद फिर दिखाया बाहर का रास्ता

मोदी ने कहा, महामिलावटी कहते हैं कि राष्ट्रीय सुरक्षा कोई मुद्दा नहीं है. ऐसा कैसे हो सकता है, जबकि आतंकवादी हमलों के कारण कितने आम लोगों की जान गई है? प्रधानमंत्री मोदी ने बालाकोट हवाई हमलों का परोक्ष जिक्र करते हुए कहा, हमने आतंकवादियों को जिस तरह घर में घुसकर मारा, उनका खात्मा होना ही था. Also Read - राहुल गांधी ने कहा- चीनी सैनिक भारतीय क्षेत्र कब्जा रहे हैं, '56 ईंच सीना' वाले व्यक्ति ने नाम भी नहीं लिया

मोदी ने पाटलीपुत्र लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के तहत आने वाले पालीगंज में एक चुनावी रैली में कहा, यह चुनाव के दौरान राज्य में मेरी आखिरी जनसभा है, लेकिन मैं अपने नए कार्यकाल में मेरी विकास परियोजनाओं के साथ आपके बीच वापस आऊंगा. आपका प्यार देखकर मुझे अपनी जीत का भरोसा हो गया है, लेकिन कृपया सुनिश्चित कीजिए कि आखिरी चरण में, जीत का अंतर बड़ा हो.प्रधानमंत्री ने सैम पित्रोदा के ”हुआ तो हुआ” बयान को लेकर भी कांग्रेस की आलोचना की और कहा कि यह 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर विपक्षी दल के अहंकार को दर्शाता है. Also Read - सुभाषचंद्र बोस के धर्मनिरपेक्ष विचारों के खिलाफ थे RSS के लोग, BJP को जयंती मनाने का अधिकार नहीं: कांग्रेस

मोदी ने लालू प्रसाद के राजद का नाम लिए बगैर उस पर भी निशाना साधा और सत्ता हासिल करने के लिए जाति समर्थन का इस्तेमाल करने एवं कार्यकर्ताओं के योगदान को नजरअंदाज करके परिवार के लोगों को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया.

प्रधानमंत्री ने बिहार में सत्ता में रहने के दौरान अपराधीकरण को बढ़ावा देने और गरीबों के जीवनस्तर में सुधार के लिए नवोन्मेष करने में नाकाम रहने को लेकर भी राजद की आलोचना की.