नई दिल्ली: कर्नाटक में सत्ता का पेच फंस हुआ है.  इस बीच बीजेपी, कांग्रेस के साथ जेडीएस बाजी अपने पक्ष में करने में जुटी हुई हैं. सभी के अपने-अपने तर्क हैं. इन दलों के नेता अपनी – अपनी पार्टी की सरकार बनाने के लिए राज्यपाल की ओर खुद को आमंत्रित करने के लिए तर्क- कुतर्क दे रहे हैं. बीजेपी का दावा है कि वह राज्य में सबसे बड़ी पार्टी है, तो पहले उसे सरकार बनाने के लिए बुलाया जाए, वहीं, कांग्रेस का कहना हैं कि हमारा समर्थन जेडीएस के साथ है, इसलिए पहले उसे सरकार बनाने के लिए बुलाया जाना चाहिए. लेकिन ये जरूरी नहीं है कि सबसे बड़ा विजेता ही सरकार बनाए. देश में पहले भी कई बार त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में सबसे बड़े दल मुंह देखते रह गए और छोटे-छोटे दलों ने मिलकर सरकार बना ली. यहां हम कुछ ऐसी ही विचित्र स्थितियों में सरकारों के बनने के राजनीति के इतिहास में कई करिश्में हो चुके हैं. Also Read - दिल्ली वालों को बड़ी राहत: कोरोना टेस्ट के लिए नहीं देने होंगे रुपए, गृह मंत्रालय ने लिया फैसला

Also Read - 'महाराष्ट्र में अगले 2-3 माह में सरकार बना लेगी बीजेपी, तैयारी हो गई है'

कर्नाटक चुनाव LIVE: येदियुरप्पा ने राज्यपाल को सौंपा पत्र, कहा- वजुभाई वाला सरकार बनाने के लिए बुलाएंगे Also Read - कलह और अपने नेताओं को कांग्रेस की सलाह- सार्वजनिक रूप से बयान न दें क्योंकि...

त्रिशंकु में बड़े विजेताओं को कम संख्या वाले दलों ने कब-कब ऐसे दी पटकनी

मेघालय: साल 2018, सीटें- 60

– इस साल 2018 में मेघायल की 60 सीटों वाली विधानसभा में कांग्रेस 21 सीटें जीतकर सबसे बड़ी विजेता बनी

– एनपीपी ने 19 सीटें, बीजेपी- 2, यूडीपी-6, एचएसपीडीपी- और निर्दलीय-1 ने मिलकर सरकार बना ली

मणिपुर: साल 2017, सीटें- 60

– कांग्रेस ने मणिपुर में 28 सीटें जीत पाई, सिर्फ 3 वोटों से बहुमत से चूकी

– बीजेपी ने 21 सीटें जीती और उसने एनपीपी-4 और एलजेपी की एक सीट के साथ मिलकर सरकार देखती रह गई

गोवा: साल- 2017, सीटें- 40

– गोवा के साल 2017 के चुनाव में त्रिशंकु विधानसभा के नतीजे सामने आए

– कांग्रेस ने सबसे ज्यादा 17 सीटें जीतीं लेकिन बहुमत के लिए 6 सीटें कम पड़ गईं

– 13 सीटें जीतने वाली बीजेपी ने एमजीपी की 3 सीटें, जीएफपी की 3 और निर्दलीय 3 एमएलए के साथ मिलकर सरकार बना ली

दिल्ली: साल- 2013, सीटें- 70

– बीजेपी ने साल 2013 में आए इस चुनाव के आए त्रिशंकु नतीजों में सबसे ज्यादा 32 सीटें हासिल की

– आम आदमी पार्टी ने 28 सीटें सीटें लेकिन उसे कांग्रेस के 8 एमएलए का समर्थन लेकर बना ली, लेकिन 49 दिन ही सरकार चल चकी.

कर्नाटक में कांग्रेस ऐसे चूकी, जिन्हें डाला था दाना, वे चुगने नहीं आए, अपने भी खिसक गए

त्रिशंकु में यहां बड़े विजेता ने बनाई सरकार

महाराष्ट्र: साल 2014, सीटें :288

– बीजेपी ने 122 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी, शिवसेना ने 63 कांग्रेस ने 42 और एनसीपी ने 41 सीटें

– बीजेपी को सरकार बनाने के लिए बुलाया गया और उसने शिवसेना को समर्थन के लिए मना लिया और सरकार बना ली

राजस्थान: साल 2008, सीटें 200

– कांग्रेस 96 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी, बीजेपी ने 78, बीएसपी ने 6, इंडिपेंडेंट 14 और अन्य दलों के 6 उम्मीदवार जीते

– कांग्रेस ने दावा पेश किया और बीएसपी के 6 और 9 निर्दलीयों के साथ मिलकर बहुमत साबित कर दिया

लोकसभा: साल-1996, सीटें- 554

– बीजेपी ने 161 सीटें जीती, कांग्रेस- 140, जेडी-46, वाम दल- 44 और अन्य 152 सीटों पर विजयी रहे.

– बीजेपी की ओर से अटल बिहारी बाजपेयी गठबंधन दलों के सहयोग से पीएम बने , लेकिन 13 दिन में सरकार गिर गई.