नई दिल्ली. जम्मू कश्मीर के पुलवामा में बृहस्पतिवार को हुए आतंकवादी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के सभी 40 जवानों की पहचान उनके आधार कार्ड, आईडी कार्ड तथा कुछ अन्य सामानों के जरिए ही हो पाई. अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि भीषण विस्फोट से जवानों से शव बुरी तरह से क्षत-विक्षत हो गए थे इसलिए उनकी शिनाख्त करना मुश्किल काम था. Also Read - Pulwama Attack: पुलवामा में CRPF के काफिले पर फिर से IED ब्लास्ट कर आतंकियों ने किया हमला, सर्च ऑपरेशन जारी

Also Read - पुलवामा हमले के सिलसिले में एनआईए ने पिता-पुत्री को किया गिरफ्तार

इन शहीदों की पहचान आधार कार्ड, बल के आईडी कार्ड, पैन कार्ड अथवा उनकी जेबों या बैगों में रखे छुट्टी के आवेदनों से की जा सकी. वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि कुछ शवों की शिनाख्त कलाइयों में बंधी घड़ियों अथवा उनके पर्स से हुई। ये सामान उनके सहयोगी ने पहचाने थे. Also Read - सेना ने पुलवामा मास्टरमाइंड का खात्मा करने वाले शहीदों को याद किया, लिखा ये संदेश

आखिरी सलाम: PM मोदी शहीदों के पार्थिव शरीर के सामने हाथ जोड़कर चले, श्रद्धांजलि दी

पीएम ने दी श्रद्धांजलि

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए 40 जवानों के पार्थिव शरीर शुक्रवार की शाम दिल्ली लाए गए थे. जवानों के पार्थिव शरीर C-17 विमान से दिल्ली के पालम एयरपोर्ट लाए गए. यहां शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां पहुंच शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी. इससे पहले गृहमंत्री राजनाथ सिंह व रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी. केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौर व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ ही दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल ने भी श्रद्धांजलि दी है. सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत सहित तीनों सेना अध्यक्ष यहां मौजूद हैं.

पुलवामा हमले पर क्या होगा भारत का कदम? सर्वदलीय बैठक में हो सकता है फैसला

40 जवान हुए हैं शहीद

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए जबकि कई गंभीर रूप से घायल हुए हैं.