हैदराबादः हैदराबाद की एक कोर्ट ने अपने किशोर बच्चों को बाइक चलाने की इजाजत देने के लिए 10  माता-पिता को एक दिन के लिए जेल में डाल दिया. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मोटर व्हीकल एक्ट 180 के तहत कोर्ट ने परिजनों पर 500 रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है. अंडरएज ड्राइविंग के बढ़ते चलन को रोकन के लिए कोर्ट ने 14 साल के बच्चे को एक दिन के लिए जुवेनाइल होम में भेज दिया. इन सभी केस में गाड़ियों को जब्त कर लिया गया है. गौरतलब है कि पिछले साल हुए 130 हादसों में गाड़ी किशोर ही चला रहे थे. इन हादसों में कई लोगों की जान तक चली गई. Also Read - हैदराबाद में जनसभा को संबोधित करने जा रहे भीम आर्मी चीफ आजाद गिरफ्तार

हैदराबाद पुलिस ने नाबालिग ड्राइवरों से होने वाले हादसों को रोकने के लिए एक अभियान चला रखा है. इसके तहत नाबालिग बाइक या कोई दूसरा मोटर वाहन चलाते देखा गया तो बच्चों के अभिभावकों को एक दिन के लिए जेल जाना पड़ेगा. हैदराबाद पुलिस ने यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों पर नकेल कस रखी है. पुलिस ने शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ भी अभियान चलाया हुआ है. Also Read - Coronavirus: केरल, मुंबई व हैदराबाद में चीन से लौटे 10 लोग निगरानी में

हैदराबाद पुलिस ने बताया था कि एक बार गलती करने वाले बच्चों को पुलिस समझाने की कोशिश करेगी. अगर फिर भी अगले चार बार तक गलती दोहराई जाती रही. तो गलती करने वाले नाबालिग बच्चे को एक दिन के लिए बाल सुधार गृह भेजा जाएगा. Also Read - 1768 करोड़ रुपए का बैंक लोन फ्रॉड, ED ने हैदराबाद में मनी लॉन्ड्रिंग केस में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया