hyderabad election result 2020 live updates today in hindi news: भाजपा ने कड़े मुकाबले वाले ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (ghmc election results) चुनाव में बेहतरीन प्रदर्शन कर यहां अपनी पैठ बढ़ाते हुए राज्य में सत्तारूढ टीआरएस को लगभग भयभीत कर दिया है, जो नगर निकाय पर बमुश्किल अपना कब्जा बरकरार रख पाने में कामयाब रही. Also Read - सुभाषचंद्र बोस के धर्मनिरपेक्ष विचारों के खिलाफ थे RSS के लोग, BJP को जयंती मनाने का अधिकार नहीं: कांग्रेस

भाजपा के बेहतरीन प्रदर्शन को जहां पार्टी के प्रदेश नेतृत्व ने ‘भगवा हमला’ करार दिया है, वहीं स्थानीय चुनावों के लिए प्रभारी नियुक्त किए गए भाजपा महासचिव भूपेंद्र यादव ने चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन को ‘‘नैतिक जीत’’ बताते हुए कहा कि भगवा पार्टी तेलंगाना में टीआरएस की ‘‘एकमात्र विकल्प’’ के रूप में उभरी है. Also Read - भाजपा सांसद साक्षी महाराज का विवादित बयान, बोले- नेताजी को कांग्रेस ने मरवाया

जीएचएमसी चुनाव के तहत एक दिसंबर को मतदान हुआ था. निगम के 150 वार्डों में 146 के चुनाव परिणाम अंतिम समाचार मिलने तक आ चुके थे. इनमें तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने 55, जबकि भाजपा ने 48 सीटों पर जीत दर्ज की है. एआईएमआईएम ने 44 और कांग्रेस ने अब तक दो सीटों पर जीत हासिल की है. Also Read - West Bengal: PM मोदी के पहुंचने से पहले बवाल, हावड़ा में BJP कार्यर्ताओं पर हमला, TMC वर्कर्स पर आरोप

एक दिसंबर को हुए जीएचएमसी चुनाव की मतगणना (hyderabad election result 2020) में भाजपा बेहद मजबूत पार्टी बनकर उभरी है. वहीं असदुद्दीन औवेसी की पार्टी एआईएमआईएम अपने गढ़ पुराने हैदराबाद में 44 सीटें जीतकर तीसरे नंबर पर पहुंच गई. वहीं कांग्रेस मात्र दो सीटें जीतकर चौथे स्थान पर है. पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद एन. उत्तम कुमार रेड्डी ने तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिया.

टीआरएस ने चुनाव परिणामों को उम्मीदों के अनुरूप नहीं बताया है लेकिन इसके कार्यकारी प्रमुख केटी राम राव ने कहा कि इसे लेकर निराश होने की कोई बात नहीं है. उन्होंने सर्वाधिक सीटों पर टीआरएस को जिताने के लिए लागों का शुक्रिया अदा किया. मुख्यमंत्री के बेटे रामाराव ने कहा कि पार्टी के प्रदर्शन के बारे में पार्टी की बैठक में चर्चा की जाएगी. उल्लेखनीय है कि 2016 के निगम चुनाव में टीआएस ने 150 वार्डों में 99 सीटों पर जीत दर्ज की थी.

भगवा पार्टी ने 2016 के चुनाव के मुकाबले शानदार प्रदर्शन किया है, जिसमें उसे तेलुगुदेशम पार्टी (तेदेपा) के साथ गठबंधन करके चार सीटों पर जीत हासिल हुई थी.

चुनाव परिणाम में भाजपा टीआरएस की मुख्य प्रतिद्वंद्वी के तौर पर उभरी है, हालांकि राज्य में सत्तारूढ़ पार्टी, टीआरएस अपने प्रतिद्वंद्वियों से अब भी आगे है और भगवा पार्टी को अच्छी खासी संख्या में मिली सीटों से अगले विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा. 2016 के जीएचएमसी चुनाव में तेलुगू देशम पार्टी के साथ गठबंधन कर चार सीटें हासिल करने के बाद इस बार अपने बूते ही इसमें 10 गुना की छलांग लगाई है.

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. किशन रेड्डी ने भाजपा के प्रदर्शन पर कहा, “हैदराबाद एक मिनी इंडिया है जहां TRS की 99 सीटें थीं उनकी 55 सीटें कम हो गई हैं और जहां हमारी 4 सीटें थीं वो बढ़कर 50 हो गई हैं. आज का रिजल्ट 2023 में तेलंगाना में भाजपा पार्टी को लाने के लिए जनता का आशीर्वाद है.”

इन चुनावों में प्रभावशाली प्रदर्शन से भाजपा का मनोबल और बढ़ गया है. इससे पहले, पिछले महीने दुब्बक विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में भी पार्टी को जीत हासिल हुई थी. मंगलवार को हुए जीएचएमसी चुनाव में मतपत्रों का इस्तेमाल किया गया था.

मतगणना सुबह आठ बजे शुरू हुई और पहले डाक मतपत्रों की गिनती की गई. भाजपा डाक मतपत्रों की गिनती में अपने प्रतिद्वंद्वियों से आगे चल रही थी. हालांकि चुनाव के दौरान केवल 46.55 प्रतिशत मतदान हुआ था. कुल 74.67 लाख में से केवल 34.50 लाख मतदाताओं ने मताधिकार का इस्तेमाल किया था.

टीआरएस ने सभी 150 सीटों पर जबकि भाजपा ने 149 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे. वहीं कांग्रेस ने 146, एआईएमआईएम ने 51, तथा तेदेपा ने 106 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था.

(इनपुट भाषा)