हैदराबाद: 28 नवंबर को हैदराबाद (Hyderabad Encounter) में महिला महिला से रेप और मर्डर (Hyderabad Lady Doctor Gangrape Murder Case) के मामले में गिरफ्तार किए गए चारों आरोपियों को हमला कर मारने का मुकदमा पुलिसकर्मियों पर दर्ज किया गया है. इन चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया था. तेलंगाना हाईकोर्ट ने चारों आरोपियों के शवों को 9 दिसंबर तक रखने के आदेश दिए हैं. वहीं, ये मामला सुप्रीम कोर्ट भी पहुंच गया है. एनकाउंटर के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट ने दो याचिकाएं दायर की गई हैं.

उन्नाव केसः धरने पर बैठे पूर्व सीएम अखिलेश यादव, पीड़िता के परिवार से मिलीं प्रियंका गांधी

पुलिसकर्मियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 307 (हत्या की कोशिश), धारा 176 और भारतीय शस्त्र कानून की संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि चारों आरोपियों के साथ गए पुलिस दल के प्रभारी की शिकायत के आधार पर शुक्रवार को प्राथमिकी दर्ज की गई. इस बीच, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की टीम ने मुठभेड़ स्थल का निरीक्षण किया है.

गौरतलब है कि 25 वर्षीय महिला पशु चिकित्सक के बलात्कार और हत्या के सभी चारों आरोपी शुक्रवार तड़के यहां चट्टनपल्ली में उस समय पुलिस की ‘जवाबी’ गोलीबारी में मारे गए जब उन्हें पीड़िता का फोन और मामले से जुड़े अन्य सामान बरामद करने के लिए घटनास्थल पर ले जाया गया था.

उन्नावः दुष्कर्म पीड़िता के भाई ने कहा- बहन बोल रही थी भाई मुझे बचा लो, जीना चाहती हूं

साइबराबाद पुलिस ने बताया था कि दो आरोपियों ने उनके हथियार छीनकर उन पर गोलियां चलाई और बाकी के आरोपियों ने पत्थर तथा डंडों से हमला किया, जिसमें दो पुलिसकर्मी जख्मी हो गए इसके बाद पुलिस को ‘‘जवाबी’’ कार्रवाई करनी पड़ी. महबूबनगर जिले के सरकारी जिला अस्पताल में चारों आरोपियों का पोस्टमार्टम किया गया और उसकी वीडियोग्राफी की गई. 20 और 26 साल की आयु के बीच के चारों आरोपियों को महिला का बलात्कार करने और उसका गला घोंटकर तथा बाद में उसे जलाकर उसकी हत्या करने के आरोप में 29 नवंबर को गिरफ्तार किया गया.