नई दिल्‍ली: तेलंगाना में वेटनरी डॉक्‍टर से रेप और मर्डर के चारों आरोपियों के सुबह हुए एनकाउंटर के बाद से सियासी नेताओं के इस घटना के पक्ष और विपक्ष में बयान आए हैं. बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने जहां इस एनकाउंटर पर सवाल उठाए हैं, वहीं, बीएसपी प्रमुख इस एनकाउंटर का समर्थन करते हुए नजर आईं. वहीं, कांग्रेस नेता शशि थरूर ने ऐसी कार्रवाईयों के प्रति सचेत रहने की हिदायत देते हुए कहा कि न्यायेतर हत्याएं स्वीकार्य नहीं है. दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरवाल ने भी चिंता जताई है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने हैदाराबाद रेप मामले के चारो आरोपियों के एनकाउंट पर कहा, जो भी हुआ है बहुत भयानक हुआ है इस देश के लिए. आप लोगों को केवल इसलिए मार नहीं सकते कि आप ऐसा चाहते हो. आप कानून अपने हाथ में नहीं ले सकते. उन्‍हें (आरोपियों) किसी भी तरह से कोर्ट के द्वारा फांसी की सजा दी जाती.

कांग्रेस नेता एवं लोकसभा सांसद शशि थरूर ने ट्वीट किया, ”सैद्धांतिक रूप से सहमत हूं. हमें और जानने की जरूरत है, उदाहरण के लिए अगर आरोपियों के पास हथियार थे तो पुलिस का गोली चलाना सही था. विस्तृत जानकारी मिलने तक इसकी निंदा करना सही नहीं है, लेकिन कानून के समाज में न्यायेतर हत्याएं स्वीकार्य नहीं है.”

योग गुरु बाबा रामदेव ने एनकाउंटर पर कहा, ” पुलिस ने बहुत ही साहसी कार्य किया है और मुझे यह कहना कि न्‍याया हो गया है. इस कानूनी सवाल एक अलग मामला है. लेकिन मैं सुनिश्चि हूं कि अब देश के लोगों को शांति होगी.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने इस एनकाउंटर पर कहा, उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार का शासन है मेरा यहां की पुलिस से यह कहना है कि उनको हैदराबाद पुलिस से प्रेरणा लेनी चाहिए और सख्त कदम उठाने चाहिए. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा, दुख की बात यह है कि चाहे दिल्ली हो या उत्तर प्रदेश ज्यादातर जो हमारे पुलिसकर्मी हैं, आरोपित लोगो को सरकारी मेहमान बनाकर उनको रखे हुए हैं मैं समझती हूं कि बड़े शर्म की बात है कि दिल्ली पुलिस और उत्तर प्रदेश पुलिस को खुद को बदलना होगा.

बीएसपी प्रमुख ने कहा, मैं समझती हूं इससे बलात्कारियों में दहशत पैदा होगी तो आगे ऐसी घटनायें रूक सकती हैं. लोगों में कानून का डर नहीं है. जब मेरी सरकार थी, तब चाहे वह मेरी पार्टी के लोग ही क्यों न हो मैंने उनको जेल भेजा.’

केजरीवाल ने कहा,  हैदराबाद की घटना से लोगों में संतोष और ख़ुशी है. ये चिंता का विषय है कि देश की कानून व्यवस्था पर लोगों का विश्वास टूट चुका है. हम सब को मिलकर हमारी कानून व्यवस्था और जांच प्रणाली को मजबूत करना होगा ताकि लोग दोबारा इस व्यवस्था पर विश्वास करने लगे और हर पीड़ित को जल्द न्याय मिल पाए.

समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्‍चन ने कहा, दे आए, दुरुस्‍त आए,…देर आए… बहुत देर आए.

उन्नाव सहित अन्य स्थानों पर भी महिलाओं से बलात्कार के बाद निर्मम हत्या के मामलों में आरोपियों के साथ हैदराबाद पुलिस की तरह ही रवैया अपनाने के सवाल पर बच्चन ने कहा, मैं कुछ नहीं कहूंगी.

बता दें कि बच्चन ने राज्यसभा में इस मामले पर चर्चा के दौरान महिला हिंसा से जुड़े इस तरह के गंभीर मामलों के आरोपियों को भीड़ के हवाले कर देने का सुझाव देते हुए बर्बरता करने वालों के साथ कठोरतम रवैया अपनाने की बात कही थी.

राष्ट्रीय महिला आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा ने कहा कि आरोपियों के मारे जाने से खुश हूं, लेकिन न्याय उचित कानूनी तरीके से किया जाना चाहिए.

निर्भया की मां ने अधिकारियों ने अपील की है कि मुठभेड़ में शामिल पुलिसवालों के खिलाफ कोई कार्रवाई ना की जाए. निर्भया के पिता ने भी मुठभेड़ का स्वागत करते हुए कहा कि परिवार का न्याय के लिए इंतजार जल्दी खत्म हो गया. उन्होंने कहा, हैदराबाद की चिकित्सक के परिवार को हमारी तरह न्याय के लिए सात वर्ष का इंतजार नहीं करना पड़ेगा. पुलिस ने सही किया. बता दें कि 23 वर्षीय पैरा मेडिकल छात्रा निर्भया के साथ दिसंबर 2012 में सामूहिक बलात्कार किया गया था और कुछ दिन इलाज के बाद उसने दम तोड़ दिया था.  (इनपुट एजेंसी)