हैदराबाद: तेलंगाना और आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद के उप्‍पल क्षेत्र में दिल दहला देने वाला एक मामला सामने आया है. हैदराबाद पुलिस ने एक दंपति को गिरफ्तार किया है, जिसने अपनी चाहत पूरी करने के लिए मासूम बच्‍ची की बलि चढ़ा दी. आरोपी का नाम केरुकोंडा राजशेखर है, जो एक कैब ड्राइवर है. राजशेखर ने अपनी पत्‍नी के साथ मिलकर इस जुर्म को अंजाम दिया. पुलिस के अनुसार यह मामला पूरी तरह से अंधविश्‍वास से जुड़ा है. राजशेखर और उसकी पत्‍नी ने किसी तांत्र‍िक के कहने पर मासूम बच्‍ची की हत्‍या कर दी. दरअसल, यह मामला 31 जनवरी का है. 31 जनवरी को सुपरमून, ब्लूमून और चंद्र ग्रहण (जिसे ब्लड मून भी कहते हैं) एक ही रात को नजर आया. इस घटना को ‘सुपर ब्लू ब्लड मून’ कहा गया. माना जाता है कि इस तांत्र‍िक अपनी विद्या सिद्ध करते हैं.

क्‍या है पूरा मामला
दरअसल, 1 फरवरी को कैब ड्राइवर राजशेखर की छत पर बच्‍ची का सिर देखा गया. पड़ोसियों ने 100 नंबर पर पुलिस से इसकी शिकायत की. पुलिस ने शिकायत के आधार पर पूछताछ शुरू कर दी. हालांकि शुरुआती पूछताछ में राजशेखर और उसकी पत्‍नी तरह-तरह की कहानियां बनाकर टालमटोल करते रहे. लेकिन जांच के दौरान डीएनए टेस्‍ट से सच सामने आ गया.

किसकी थी बेटी
राजशेखर और उसकी पत्‍नी ने बच्‍ची को फूटपाथ से चुराया था, जब वह अपने माता-पिता के साथ सो रही थी. उन्‍होंने बच्‍ची के दूध की बोतल भी चुराई ताकि काला जादू करते हुए उसका इस्‍तेमाल कर सकें. बच्‍ची को चुराने के बाद राजशेखर उसे मूसी नदी के किनारे ले गया, जहां उसने बच्‍ची का सिर, धड़ से अलग कर दिया. राजशेखर ने बच्‍ची का धड़ पानी में बहा दिया और काले जादू की प्रक्रिया पूरी करने के लिए उसका सिर अपने साथ घर ले आया. राजशेखर और उसकी पत्‍नी ने घर के लिविंग रूम में ही बच्‍ची के सिर पर काला जादू का काम पूरा किया, जिसे उसने क्षुद्र पूजा का नाम बताया. पूजा पूरी करने के बाद राजशेखर ने बच्‍ची का सिर ग्रहण के दौरान दक्ष‍िण-पश्‍च‍िम कोने में रख दिया.

क्‍यों की हत्‍या
दरअसल, राजशेखर की पत्‍नी पिछले चार साल से बीमार चल रही थी. इसी बीच उनकी मुलाकात एक तांत्र‍िक से हुई. तांत्र‍िक ने राजशेखर को बताया कि बुरी आत्‍माओं के कारण ही उसकी पत्‍नी की तबियत में सुधार नहीं हो रहा. ऐसे में उन्‍हें एक बच्‍ची के सिर की बलि चढ़ानी होगी. इसके बाद से ही राजशेखर बच्‍ची किडनैप करने की कोशिश करने लगा. पुलिस ने बताया कि राजशेखर की नजर 3 से 6 महीने की बच्‍च‍ियों पर थी. मामला सामने आने के बाद राजशेखर और उसकी पत्‍नी को गिरफ्तार कर लिया गया है. दोनों पर हत्‍या और पुलिस को गलत जानकारी देने के लिए धारा 302 और 201 के तहत केस दर्ज किया गया है.