नई दिल्ली/भोपाल. 2008 मालेगांव धमाका मामले में जमानत पर बाहर आई साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कांग्रेस सरकार पर हमला करते हुए गंभीर आरोप लगाए हैं. साध्वी ने खुद को बेकसूर बताते हुए कहा कि मैं कांग्रेस की साजिश का शिकार हुई. उन्होंने कहा कि भगवा आतंक शब्द कांग्रेस की देन था. कांग्रेस ने मेरे खिलाफ षडयंत्र किया था. उन्होंने कहा कि मुझे एटीएस ने गैरकानूनी तरीके से सूरत से गिरफ्त में लिया और मुझे बेहद बुरी तरह प्रताड़ित किया गया.

साध्वी ने कहा कि 9 साल अन्याय में गुजारने के बाद आज मैं बंधन से मुक्त हूं, अभी मैं जेल से अर्ध-मुक्त हुई हूं. अपना अच्छा इलाज करा सकती हूं. साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि एटीएस ने मुझे इस तरह प्रताड़ित किया कि आजाद ही नहीं, गुलाम भारत में भी शायद ही किसी महिला शरीर को इस तरह प्रताड़ना दी गई होगी. एटीएस ने मुझे गैर कानूनी तरीके से बंधक बनाया था. उन्होंने कहा कि मैं अपराधियों को कानूनी तौर पर सजा दिलाऊंगी.

बता दें कि बॉम्बे हाई कोर्ट ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को 5 लाख के निजी मुचलके पर जमानत दी है. वहीं कर्नल पुरोहित की जमानत अर्जी खारिज कर दी है. इसके पहले जांच एजेंसी एनआईए साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को अपनी जांच में क्लीन चिट दे चुकी थी. बावजूद इसके ट्रायल कोर्ट ने साध्वी की जमानत खारिज कर दी थी. एनआईए का दावा था कि साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ मुकदमा चलाने लायक सबूत नहीं है.