नई दिल्ली। जनता दल यूनाइटेड के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद शरद यादव ने नीतीश कुमार के फैसले को दुर्भाग्यपूर्म बताया है. आज संसद भवन के बाहर उन्होंने साफ तौर पर कहा कि मैं नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ गठबंधन करने के फैसले से सहमत नहीं हूं. गौरतलब है कि नीतीश कुमार ने 26 जुलाई को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देते हुए आरजेडी से गठबंधन तोड़ लिया था. उसके अगले ही दिन बीजेपी के समर्थन से मुख्यमंत्री पद की छठवीं बार शपथ ले ली.Also Read - Bihar विधानसभा परिसर में मिलीं शराब की बोतलें, नीतीश कुमार ने तेजस्‍वी यादव के सवाल का दिया ये जवाब

Also Read - Delhi: अंतरराज्यीय साइबर ठगों के गैंग का भंडाफोड़, क्लिकजैकिंग, सिम ब्लॉक कर लाखों उड़ा देते हैं ये लुटेरेे

लालू ने किया था शरद यादव को फोन
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीजेपी से हाथ मिलाने के बाद आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने जेडीयू के नेता शरद यादव से साथ आने की अपील की है. बताया जा रहा है कि नीतीश के पाला बदलने से शरद नाराज चल रहे हैं और लालू उन्हें अपने पाले में लाने की कोशिश में जुट गए हैं. लालू ने कहा कि इस बारे में उन्होंने शरद यादव से फोन पर बात भी की. Also Read - Bihar CM नीतीश कुमार भी गांजा पीते थे, RJD विधायक ने लगाया विवादास्पद आरोप

बताया जा रहा है कि महागठबंधन से जेडीयू के अलग होने के बाद लालू प्रसाद की यह नई सियासी चाल है. शरद से फोन पर हुई बातचीत के बारे में लालू ने कहा कि मैने उनसे आरजेडी में शामिल होने के लिए अपील किया और कहा कि आइए और देश के हर कोने में जाकर इस लड़ाई की कमान अपने हाथों में लें.