नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक चौकाने वाला सियासी बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि मुझे ईमानदारी का सर्टिफिकेट पीएम नरेन्‍द्र मोदी से मिला है. वहीं, केजरीवाल ने पीएम की ईमानदारी पर भी संदेह जाते हुए कहा, मैं देश की जनता से पूछना चाहता हूं कि क्या आप दिल से कह सकते हो कि हमारा प्रधानमंत्री ईमानदार है. सीएम केजरीवाल ने कहा कि पिछले तीन सालों में उनके हर फैसले की केंद्र सरकार द्वारा जांच कराने के बावजूद गड़बड़ी का एक भी तथ्य नहीं मिलना आप सरकार की ईमानदारी का सबसे बड़ा प्रमाण है और उन्हें ईमानदारी का यह प्रमाणपत्र मोदी जी से मिला है. Also Read - PM Narendra Modi Address to Nation Full Speech: कोरोना और नवरात्रि, ईद, छठ से लेकर कबीर के दोहा तक, पढ़ें पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें

400 फाइलें हमारे खिलाफ गड़बड़ी निकालने के लिए मंगा लीं 
केजरीवाल ने सोमवार को आप के छठे स्थापना दिवस के अवसर पर पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा ”तीन साल में हमारी सरकार ने जितने भी निर्णय लिए थे, उनसे जुड़ी वे सभी 400 फाइलें मोदी जी ने, हमारे खिलाफ कोई भी गड़बड़ी निकालने के लिए मंगा लीं जिन पर मैंने दस्तखत किए थे. लेकिन कुछ भी नहीं निकला. मुझे ईमानदारी का सर्टिफिकेट प्रधानमंत्री मोदी जी से मिला है.” Also Read - कृषि कानून के खिलाफ पंजाब विधानसभा में प्रस्ताव पेश, CM अमरिंदर बोले - 'सरकार के बर्खास्त होने से भी नहीं डरता लेकिन...'

जनता कहती है कि हमारा मुख्यमंत्री ईमानदार
केजरीवाल ने दिल्ली सरकार की ईमानदारी का हवाला देते हुए कहा, ”आज दिल्ली की जनता कहती है कि हमारा मुख्यमंत्री ईमानदार है. मैं देश की जनता से पूछना चाहता हूं कि क्या आप दिल से कह सकते हो कि हमारा प्रधानमंत्री ईमानदार है.” Also Read - पंजाब विधानसभा में कृषि कानून के खिलाफ बिल पेश होने से पहले AAP विधायकों का धरना- सदन में ही गुजारी रात, जानें वजह...

गुजरात में मोदी के 12 साल से ज्‍यादा दिल्ली में हमारे तीन साल में काम 
इतना ही नहीं, उन्होंने दिल्ली सरकार के साढे़ तीन साल के कामों को ऐतिहासिक करार देते हुए दावा किया कि गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए मोदी ने 12 साल में जितने काम किए थे, उससे कहीं ज्यादा काम दिल्ली में आप सरकार ने साढ़े तीन साल में कर दिए.

देश में संविधान पर खतरा मंडरा रहा 
केजरीवाल ने कहा कि संविधान दिवस के दिन ही आप का गठन होना महज संयोग मात्र नहीं हो सकता है. उन्होंने कहा ”यह नियति का एक इशारा है कि आज देश में संविधान पर जो खतरा मंडरा रहा है उस खतरे से देश को निजात दिलाने में कोई और पार्टी सक्षम नहीं है, सिर्फ आप ही इस खतरे से निजात दिला सकती है.”

पार्टी राजनीतिक क्रांति बन कर उभरी
मुख्यमंत्री ने पिछले छह साल में आप की उपलब्धियों को उल्लेखनीय बताते हुए कहा कि हर तरह की बाधाओं के बावजूद अपने कामों के बलबूते पार्टी भ्रष्टाचार और सांप्रदायिकता के खिलाफ राजनीतिक क्रांति बन कर उभरी है.