नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा ने राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ शुक्रवार को प्रस्ताव पारित किया. एनपीआर और एनआरसी पर चर्चा के लिए बुलाए गए एक दिवसीय विशेष सत्र में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र से इन्हें वापस लेने की अपील की.Also Read - Delhi: शिरोमणि अकाली दल का कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध मार्च, दो मेट्रो स्‍टेशनों के गेट बंद, सुरक्षा बढ़ी

केजरीवाल ने सवाल किया, ”मेरे, मेरी पत्नी, मेरी पूरी कैबिनेट के पास नागरिकता साबित करने के लिए जन्म प्रमाण पत्र नहीं है. क्या हमें निरोध केंद्र भेजा जाएगा?” Also Read - UP Polls 2022: मनीष सिसोदिया का बड़ा ऐलान- 'यूपी में AAP की बनी सरकार तो 24 घंटे के अंदर 300 यूनिट फ्री बिजली'

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, मैं राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ प्रस्ताव का समर्थन करता हूं और उन्हें दिल्ली में लागू नहीं किया जाना चाहिए. Also Read - Delhi: ED ने रिटायर्ड IAS अधिकारी हर्ष मंदर से जुड़े परिसरों पर छापे मारे

मुख्यमंत्री ने केंद्रीय मंत्रियों से कहा कि वे दिखाएं कि क्या उनके पास सरकारी एजेंसियों द्वारा जारी जन्म प्रमाण पत्र हैं?

केजरीवाल ने विधानसभा में विधायकों से कहा कि यदि उनके पास जन्म प्रमाण पत्र हैं, तो वे हाथ उठाएं. इसके बाद दिल्ली विधानसभा के 70 सदस्यों में से केवल नौ विधायकों ने हाथ उठाए.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘सदन में 61 सदस्यों के पास जन्म प्रमाण पत्र नहीं हैं. क्या उन्हें निरोध केंद्र भेजा जाएगा?’’