श्रीनगर। पाकिस्तान में नई सरकार बनने के साथ ही भारत-पाक के बीच बातचीत की मांग जोर पकड़ती दिख रही है. इमरान खान के पाकिस्तान की सत्ता संभालने के बाद कई लोगों को जम्मू कश्मीर में शांति की उम्मीद नजर आने लगी है. इन्हीं में से एक हैं पुलवामा में आतंकियों के हाथों मारे गए सेना के जवान औरंगजेब के पिता मो. हनीफ. इसी साल 14 जून को आतंकियों ने पुलवामा में औरंगजेब का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी थी. ईद के दिन औरंगजेब शोपियां के आर्मी कैंप से घर जा रहा था तभी इसे अंजाम दिया गया. Also Read - दशकों तक किसानों से खोखले वादे करने वाले अब उन्हीं के कंधे पर रखकर बंदूक चला रहे हैं: पीएम मोदी

पीएम मोदी से की अपील Also Read - महत्वपूर्ण पहल है पीएम मोदी का ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान: आईएमएफ

सेना में राइफलमैन रहे औरंगजेब के पिता मो. हनीफ ने पीएम नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के पीएम इमरान खान के बीच बातचीत की अपील की है. शहीद औरंगजेब के पिता मो. हनीफ ने कहा कि मैं पीएम मोदी से अपील करता हूं कि वह इमरान खान से मुलाकात करें. दोनों देशों के बीच ऐसी सहमति बननी चाहिए कि दोनों तरफ का कई भी व्यक्ति मारा न जाए और दोनों देशों में विकास का माहौल रहे. Also Read - पद्मश्री से सम्मानित परमाणु वैज्ञानिक डॉ. शेखर बसु का कोविड-19 से निधन, PM मोदी ने जताया दुख

सिद्धू साहब को हमसे भी मिलना चाहिए था

कांग्रेस के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तान जाने पर मो. हनीफ ने कहा, मुझे लगता है कि सिद्धू साहब को पाक आर्मी चीफ से ही नहीं हमसे भी मिलना चाहिए. मैं इमरान खान से कहना चाहूंगा कि अगर वह हमारी तरफ एक कदम बढ़ाएंगे तो हम उनकी तरफ 100 कदम बढ़ाएंगे.

बता दें कि इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में सिद्धू पाकिस्तान गए थे. इसे लेकर वह आलोचना के घेरे में भी हैं. खास तौर पर पाक आर्मी चीफ से गले मिलने और गुलाम कश्मीर के राष्ट्रपति के साथ नजर आने की वजह से उन पर सियासी हमले हो रहे हैं. खासतौर पर बीजेपी इसे लेकर बेहद आक्रामक है और सिद्धू और कांग्रेस से लगातार इसपर जवाब मांग रही है. सिद्धू के बहाने बीजेपी ने राहुल गांधी को भी निशाने पर लिया है.