नई दिल्‍ली: कर्नाटक में मंगलवार की शाम जेडीएस कांग्रेस गठबंधन सरकार गिरने के बाद बीजेपी की ओर से संभावित मुख्‍यमंत्री पद के दावेदार बनकर उभरे बीजेपी के कर्नाटक प्रदेश अध्‍यक्ष बीएस येदियुरप्‍पा ने कहा, मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और हमारे पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह जी से विमर्श करूंगा, इसके बाद मैं राज्‍यपाल से मिलने जाऊंगा. वहीं, कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा, कांग्रेस पार्टी भारतीय जनता पार्टी के द्वारा लाई गई अनैतिक, जबरन और गलत इरादे के साथ राजनीतिक स्थिरता के खिलाफ राष्‍ट्रव्‍यापी विरोध प्रदर्शन करेगी. Also Read - Complete Lockdown in Karnataka : कर्नाटक में लगा पूर्ण लॉकडाउन, जरूरी सेवाओं को छोड़कर किसी को भी बाहर निकलने की इजाजत नहीं | देखें गाइडलाइन

Also Read - प्रधानमंत्री की आलोचना के लिए भाजपा नेताओं ने सोरेन को लिया आड़े हाथ, बोले- सामान्य शिष्टाचार की समझ नहीं

कर्नाटक: कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिरी, फ्लोर टेस्ट में फेल हुए कुमारस्वामी ने सौंपा इस्तीफा Also Read - ममता बनर्जी ने PM नरेंद्र मोदी को लिखा खत, कहा- ऑक्सीजन की आपूर्ति करें, वरना लोगों की चली जाएगी जान

कर्नाटक में सरकार गिरते ही बीजेपी में खुशी की लहर, येदियुरप्पा फिर बन सकते हैं सीएम

राज्‍य में एचडी कुमारस्‍वामी के नेतृत्‍व वाली सरकार गिरने के बाद बीजेपी नेता येदियुरप्‍पा ने कहा, ये लोकतंत्र की जीत है. लोग कुमारस्‍वामी सरकार से उदासीन हो चुके थे. मैं कर्नाटक के लोगों को आश्‍वत करना चाहता हूं कि विकास के नए युग की शुरुआत होगी.

कर्नाटक में गहराते संकट के बीच बेंगलुरु में दो दिन के लिए धारा 144 लागू

सरकार गिरने के बाद सीएम कुमारस्‍वामी अपना इस्‍तीफा राज्‍यपाल वजुभाई वाला को सौंपा. इस पर राज्‍यपाल ने मुख्‍यमंत्री का इस्‍तीफा तत्‍काल स्‍वीकार करते उन्‍हें अभी केयरटेकर सीएम बने रहने के लिए कहा है.

तीन बार राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके येदियुरप्पा ने कहा कि उनका ध्यान सूखे तथा अन्य परेशानियों का सामना कर रहे किसानों पर होगा. उन्होंने कहा, “हमारे किसान सूखे और अन्य समस्याओं से परेशान हैं. हम कर्नाटक की जनता को आश्वासन देते हैं कि आने वाले दिनों में हम किसानों को और अधिक महत्व देंगे, ताकि वह खुशहाल जीवन जी सकें.” उन्होंने कहा कि उनकी सरकार बनने के बाद वह इस संबंध में जल्द से जल्द एक उचित फैसला लेगी.

कर्नाटक की कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन सरकार विश्वासमत खोने के बाद गिर गई. 99 विधायकों ने विश्वास प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिया, जबकि 105 सदस्यों ने इसके खिलाफ मत दिया. इसके साथ ही राज्य में करीब तीन सप्ताह तक चला सियासी नाटक खत्म हो गया.