नई दिल्‍ली: भारतीय वायुसेना का एएन-32 विमान ने सोमवार को दोपहर करीब 12:25 बजे असम के जोरहाट में उड़ान भरी  थी और करीब 35 मिनट बाद एक बजे विमान का ग्राउंड स्टाफ से सभी प्रकार का संपर्क टूट गया. विमान चीन से सटे अरुणाचल प्रदेश के मेचुका में एडवांस लैंडिंग ग्राउंड तक जा रहा था. विमान में चालक दल के 8 सदस्य और पांच यात्री सवार थे. 13 लोगों को लेकर विमान अरुणाचल प्रदेश के मेनचुका एयर फील्‍ड के लिए रवाना हुआ था. उड़ान भरने के बाद विमान का ग्राउंड स्टाफ से सभी प्रकार संपर्क एक बजे टूट गया था.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, मैंने वाइस चीफ ऑफ आईएएफ, एयर मार्शन राकेश सिंह भदौरिया से लापता आईएएफ एन-32 एयरक्राफ्ट के बारे में बात की है, जो कुछ घंटे पहले लापता हुआ है. उन्‍होंने मुझे वायुसेना द्वारा विमान को खोजने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी दी है. मैं विमान में सवार सभी यात्र‍ियों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं.”

एयरफोर्स ने लापता विमान को खोजने के लिए सुखोई-30 लड़ाकू विमान और सी सी-130 स्‍पेशल ऑपरेशन एयरक्राफ्ट को तलाशी अभियान में लगाया है. भारतीय वायुसेना के एएन-32 विमान का जमीन से संपर्क एक बजे टूट गया था.

सूत्रों ने बताया कि विमान में चालक दल के आठ सदस्य और पांच यात्री सवार थे. उन्होंने बताया कि विमान का पता लगाने के लिए भारतीय वायु सेना ने सभी उपलब्ध संसाधन काम में लगा दिए हैं. गुवाहाटी में रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल पी. खोंगसाई ने कहा कि लापता विमान को खोजने के प्रयास किए जा रहे हैं. (इनपुट: एजेंसी)