नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के लड़ाकू विमान से दागे जा सकने वाले प्रारूप का शुक्रवार को सफल परीक्षण किया. इसे एक सुखोई एमकेआई-30 विमान से बंगाल की खाड़ी में दागा गया. आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी. खास बात ये है कि सुखोई एमकेआई-30 विमान ने करीब तीन घंटे की उड़ान के बाद यह मिसाइल दागी और मिसाइल दागे जाने से पहले आकाश में ही जंगी जहाज में ईंधन भरा गया. Also Read - COVID-19 Latest News: भारत में कोरोना केस 96 लाख के पार, Death Toll कल होगी 1.40 लाख के पार

इस टेस्‍ट में मिसाइल ने पूरी सटीकता के साथ एक डूबते जहाज को निशाना बनाया और परीक्षण में वांछित नतीजे हासिल किए गए. Also Read - किसान आंदोलन पर बोलकर फंसे कनाडाई पीएम, भारत ने उच्चायुक्त को किया तलब; द्विपक्षीय संबंध बिगड़ने की चेतावनी

सूत्रों ने बताया कि विमान तंजौर स्थित टाइगरशार्क्स स्कवाड्रन का था. विमान ने पंजाब में एक एयरबेस से उड़ान भरी और मिसाइल दागे जाने से पहले आसमान में ही विमान में ईंधन भरा गया. Also Read - COVID-19 Update News: Coronavirus के 36,594 नए केस, कुल आंकड़ा 95 लाख 71 हजार के पार

वहीं, बंगाल की खाड़ी में भारतीय नौसेना के गाइडेड मिसाइल कोर्वेट INS कोरा द्वारा एंटी-शिप मिसाइल (ASHM) द्वारा दागे गए लक्ष्य को निशाना बनाया.

पूर्वी लद्दाख में सीमा पर चीन के साथ भारत का गतिरोध जारी रहने के बीच यह परीक्षण किया गया है.

अधिकारियों ने बताया कि सुखोई एमकेआई-30 विमान ने करीब तीन घंटे की यात्रा की, जिसके बाद यह मिसाइल दागी गई.