नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए रविवार शाम को जारी आईएएनएस सीवोटर एक्जिट पोल के मुताबिक, एक बार फिर भाजपा नीत राजग बहुमत से केन्द्र में सरकार बनाएगा. आईएएनएस सीवोटर एक्जिट पोल के मुताबकि, एनडीए को 287 सीटें मिलने का अनुमान है. भाजपा को 236 सीटें सीटें मिलने की संभावना जताई गई है. पोल सर्वे के मुताबिक, बीजेपी की सहयोगी शिवसेना को 15, जद(यू) एवं लोजपा को 20, बीपीएफ को 1, एनपीपी को 1, एनडीपीपी को 1, शिअद को 1, एसपीएम को 1, अन्नाद्रमुक को 10 एवं एडी को 1 सीट मिलने अनुमान जताया गया है. पोल में एनडीए को 287 जबकि यूपीए को 128 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है.

आईएएनएस सीवोटर एक्जिट पोल में रविवार शाम छह बजे तक एनडीए का वोट शेयर 42.3 फीसदी और यूपीए का 29.6 फीसदी होने का अनुमान है.पिछले आम चुनाव 2014 में राजग को 337 सीटें मिली थीं जिनमें भाजपा को 283 सीटों पर जीत मिली थी. सर्वेक्षण के अनुसार, कांग्रेस की अगुवाई में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) को 128 सीटें मिल सकती हैं, जिनमें कांग्रेस को 80 सीटें मिलने की संभावना है. पिछले आम चुनाव 2014 में संप्रग को 59 सीटें मिली थीं, जिनमें कांग्रेस को महज 44 सीटें मिली थीं. देशभर में वोटों की बात करें तो राजग को 42.3 फीसदी वोट मिलने की संभावना है. वहीं, संप्रग को 29.6 फीसदी जबकि अन्य को 28.1 फीसदी वोट मिल सकता है.

यह अनुमान 19 मई के शाम चार बजे तक प्राप्त आंकड़ों के आधार पर है. सर्वेक्षण के अनुसार, उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) गठबंधन को 40 सीटें मिल सकती हैं जबकि भाजपा को 38 सीटें मिलने की संभावना है. पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने प्रदेश की 71 सीटों पर जीत हासिल की थी.

पश्चिम बंगाल में एनडीए राजग को सबसे ज्यादा बढ़त मिलने की संभावना है, जहां पिछले लोकसभा चुनाव में प्राप्त दो सीटों से इसका आंकड़ा बढ़कर 11 सीटों तक जा सकता है.

ओडिशा में भी एनडीए को नौ सीटों का फायदा मिल सकता है और इसकी सीटों का आंकड़ा प्रदेश में 10 तक जा सकता है.

– बिहार में यूपीएम को 33 सीटें मिलने की संभावना है, जिनमें 13 सीटों पर भाजपा को जीत मिल सकती है. राजग के अन्य सहयोगी जनता दल-युनाइटेड (जदयू) और लोक जनतांत्रिक पार्टी (लोजपा) को 20 सीटें मिल सकती हैं. पिछले लोकसभा चुनाव 2014 में प्रदेश में भाजपा को 22, लोजपा को 6 और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी यानी रालोसपा (उस समय राजग में शामिल थीं) को तीन सीटें मिली थीं.

–  उत्तर प्रदेश में गैर-एनडीए और गैर-यूपीए दलों मेंसपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन को 40 सीटें, पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस को 29 सीटें मिलने की संभावना है. पिछले लोकसभा चुनाव में तृणमूल को 34 सीटें मिली थीं.

– आंध्रप्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस को 11 सीटें मिल सकती हैं और टीडीपी को 14 सीटें मिलने की संभावना है.

– ओडिशा में बीजू जनता दल (बीजद) को 11 सीटें मिल सकती हैं.

तो राजग की सीटों का आंकड़ा 323 तक
अगर भाजपा चुनाव के बाद वाईएसआर कांग्रेस, बीजद, टीआरएस से गठबंधन करती है तो राजग की सीटों का आंकड़ा 323 तक जा सकता है. वहीं, संप्रग अगर चुनाव के बाद एआईयूडीएफ, एलडीएफ, महागठबंधन और तृणमूल कांग्रेस के साथ गठबंधन करता है तो इसकी सीटों की संख्या 203 तक जा सकती है.

एनडीए को 42.3 फीसदी, यूपीए को 29.6 वोट वोट
आईएएनएस सीवोटर एक्जिट पोल के मुताबिक, शाम 6 बजे तक आईएएनएस सीवोटर एक्जिट पोल में रविवार शाम छह बजे तक एनडीए का वोट शेयर 42.3 फीसदी और यूपीए का 29.6 फीसदी होने का अनुमान है.

भाजपा नीत राजग को 300 सीटें : एनडीटीवी पोल
वहीं, एनडीटीवी पोल में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए को 300 सीटें और कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए को 126 सीटें और अन्य पार्टियों को 116 सीटें मिलने का अनुमान एनडीटीवी पोल में जाहिर किया गया है.

गठबंधन को कम से कम 272 सीटें चाहिए
लोकसभा चुनाव के लिए सात चरणों में मतदान 11 अप्रैल से 19 मई तक चुनाव हुआ. वोटों की गिनती और परिणाम 23 मई को घोषित होंगे. लोकसभा में कुल 542 र्सीटें हैं और बहुमत के लिए किसी भी पार्टी या गठबंधन को कम से कम 272 सीटें चाहिए.