नई दिल्ली: अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से जम्मू कश्मीर में अब तक कोई बड़ी अप्रिय स्थिति सामने नहीं आई है, लेकिन फिर भी हालात तनावपूर्ण हैं. केंद्र सरकार वहां हर हाल में शांति की कोशिश कर रही है. वहीं, एक महिला आईएएस अधिकारी भी अपनी कोशिशों के चलते सुर्ख़ियों में है. कश्मीर में किसी को बाहर रह रहे अपने परिजनों से बात करनी है, किसी और मदद की ज़रूरत है या फिर मीडिया तक हालात की जानकारी देनी है, इसके लिए वह हर समय तैयार हैं. इन कोशिशों के चलते यह महिला आईएएस अधिकारी बेहद चर्चा में है.

ये आईएएस अधिकारी हैं डॉ. सैयद सेहरिश असगर. किसी दूसरी जगह नहीं बल्कि जम्मू कश्मीर के किश्तवार से ही ताल्लुक रखने वालीं सैयद सेहरिश असगर घाटी के लोगों के बीच सक्रिय हैं. उनकी सक्रियता और लोगों की मदद करने का अंदाज इन दिनों खूब सुर्ख़ियों में है.

एमबीबीएस की डिग्री हासिल करने के बाद 2013 में सिविल सर्विस की परीक्षा पास कर 2013 में आईएएस अधिकारी बनने वालीं सेहरिश इन दिनों जम्मू कश्मीर की सूचना निदेशक एवं जनसंपर्क अधिकारी हैं.

उनका काम सरकारी कामों की सूचना मीडिया को देना है, लेकिन पिछले कई दिनों से वह अलग भूमिका के साथ लोगों के बीच सक्रिय हैं.

अनुच्छेद 370 हटने के बाद घाटी में अफवाहों को लेकर आज उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में कानून व्यवस्था की कोई दिक्कत नहीं है. सब कुछ सामान्य हो रहा है. लोग सहयोग कर रहे हैं. कुछ लोगों ने अफवाह फैलाने की कोशिश की, जिसमें उन्हें कामयाबी नहीं मिली. जम्मू रीजन में कानून व्यवस्था को लेकर कोई अप्रिय सूचना अब तक नहीं आई है.