नई दिल्ली: सरकार ने दो खुफिया एजेंसियों के प्रमुखों को एक साथ ही सर्विस एक्सटेंशन देने का फैसला किया है. इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के प्रमुख राजीव जैन और रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) के प्रमुख अनिल के. धस्माना को छह-छह महीने का सेवा विस्तार मिला है. इन दोनों के दो साल का कार्यकाल इस महीने के अंत में खत्म हो रहा था. Also Read - Goa Congress: Manohar Parrikar liberally gave service extension to as many as 30 retiring state government officials

जैन का कार्यकाल 30 दिसंबर को जबकि धस्माना का कार्यकाल 29 दिसंबर को खत्म हो रहा था. निर्णय से वाकिफ अधिकारियों ने बताया कि दोनों खुफिया प्रमुखों के कार्यकाल विस्तार का फैसला आगामी आम चुनावों को देखते हुए किया गया है. केंद्र चाहता है कि नई सरकार इन महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्ति का फैसला ले.

पाकिस्तान से आए 83 हिंदू बने भारत के नागरिक, आवेदन पर मिली नागरिकता

झारखंड के 1980 बैच के आईपीएस अधिकारी जैन 30 दिसंबर 2016 को दो साल के लिए आईबी निदेशक नियुक्त किए गए थे. राष्ट्रपति के पुलिस पदक विजेता जैन संवेदनशील कश्मीर डेस्क सहित आईबी के कई विभागों में रह चुके हैं. वह पूर्ववर्ती राजग सरकार के कश्मीर पर वार्ताकार के सी पंत के सलाहकार थे, जब शब्बीर शाह जैसे अलगाववादी नेताओं के साथ वार्ता हुई थी.

छत्तीसगढ़: 90 में से 68 विधायक करोड़पति, कांग्रेस के हर विधायक की औसत संपत्ति 12 करोड़

धस्माना (अनुसंधान और विश्लेषण विंग) रॉ का नेतृत्व कर रहे हैं. यह संस्था विदेशी खुफिया जानकारी इकट्ठा करती है. मध्यप्रदेश कैडर के 1981 बैच के अधिकारी धस्माना पिछले 23 साल से रॉ में हैं. इस दौरान वह पाकिस्तान डेस्क सहित कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे.